गुरुग्राम लोकसभा सीट पर छिड़ा है 'टिकट का 'संग्राम'

गुरुग्राम लोकसभा सीट पर छिड़ा है 'टिकट का 'संग्राम'
Advertisement

कांग्रेस में राव दान सिंह और कैप्टन अजय की दावेदारी

निशांत कौशिक 

गुरुग्राम। गुरुग्राम लोकसभा सीट पर विभिन्न दलों के बीच मुकाबले को दिलचस्प बनाने के लिए विभिन्न दलों की ओर से दावेदारों के बीच संग्राम छिड़ा हुआ है। सबसे ज्यादा कसरत कांग्रेस में हो रही है। कांग्रेस छोड़कर भाजपा को चारों खाने चित करने और अपनी खोई जमीन वापस हासिल करने के लिए कांग्रेस कई उम्मीदवारों के नाम पर मंथन कर रही है। इनमें महेंद्रगढ़ सीट से तीन बार विधायक रहे राव दान सिंह और पूर्व मंत्री कैप्टन अजय यादव का नाम प्रमुखता से चल रहा है। कांग्रेस इस सीट पर बहुत सोच समझकर फैसला करने की बात कर रही है। पार्टी सूत्रों का कहना है कि कांग्रेस के लिए यह इलाका खोई सीट को वापस हासिल करने का मामला है। पार्टी ने कई स्तरों पर रिपोर्ट हासिल की है। माना जा रहा है कि पार्टी पिछले पांच सालों के दौरान मौजूदा सांसद के खिलाफ बने माहौल, विकास और कानून व्यवस्था की जमीन पर जातीय व सामाजिक समीकरण में फिट होने वाले मजबूत उम्मीदवार उतारने की तैयारी कर रही है।

राव दान सिंह या कैप्टन अजय यादव में से किसके पक्ष में राय बनेगी अभी तय नहीं है लेकिन यह जरूर है कि राव दान सिंह का दावा मजबूत करने में परदे के पीछे से कई बड़े नेता लगे हुए हैं। कैप्टन अजय यादव की भी दावेदारी आक्रामक है। उन्होंने सीधे सीधे प्रदेश सरकार के खिलाफ मोरचा छेड़ा हुआ है। उम्मीदवारी के बारे में पूछे जाने पर राव दान सिंह ने कहा कि यह तो पार्टी को तय करना है लेकिन इतना जरूर है कि पिछले पांच साल में भाजपा की खट्टर सरकार हर मोरचे पर फेल रही है। सांसद राव इंद्रजीत सिंह विकास परियोजनाओं को अमली जामा पहनाने में बुरी तरह से विफल रहे हैं। लोग निराश हैं। महेंद्रगढ़ सीट से तीन बार चुनाव जीतने वाले राव दान सिंह पिछले 35 सालों से कांग्रेस में सक्रिय हैं। वे लगातार क्षेत्र में सक्रिय रहकर राव इंद्रजीत के खेमे में सेंध लगाने की कोशिश कर रहे हैं। क्षेत्र में मजबूत रिश्तेदारियों का साथ भी उनका दावा मजबूत कर रहा है।

Advertisement

भाजपा, इनेलो और जेएनपी ने भी इस सीट के लिए अपने उम्मीदवारों को लेकर मंथन किया है। बीच में भाजपा से नाराज नजर आ रहे राव इंद्रजीत एक बार फिर भाजपा से ही अपना दावा ठोंक सकते हैं। कांग्रेस का कहना है कि इस बार भाजपा के लिए गुरुग्राम की लड़ाई आसान नही होगी।

कांग्रेस में मजबूत नजर आ रही है दान सिंह की दावेदारी

चुनाव का एलान होते ही राजनीतिक दलों में सरगर्मी बढ़ गई है। गुरुग्राम लोकसभा सीट पर किस दल से कौन उम्मीदवार होगा ये चर्चा आम लोगो में तेज हो गई है। भाजपा से अमूमन तय उम्मीदवार माने जा रहे केंद्रीय मंत्री राव इंद्रजीत को घेरने के लिए कांग्रेस, इनेलो और जेनपी में  अंदरूनी चर्चा लगातार हो रही है। कांग्रेस नेतृत्व के पास गुरुग्राम सीट पर सामने आए नामो में राव दान सिंह का दावा काफी मजबूत माना जा रहा है। 

Advertisement

पार्टी सूत्रों का कहना है कि राव दान सिंह को पार्टी के ज्यादातर नेताओ का समर्थन मिल रहा है। महेंद्रगढ़ विधानसभा सीट से कई बार प्रतिनिधित्व कर चुके राव दान सिंह पूरी तैयारी में नजर आ रहे हैं। चुनाव के पहले ही जगह जगह संवाद कार्यक्रमो के जरिये उन्होंने खुद और बेटे राव अक्षत सिंह ने पूरे गुरुग्राम को कवर किया है।

पिछले पांच साल के दौरान सधी रणनीति पर काम करते हुए राव दान सिंह ने पूरे इलाके में कार्यकर्ताओं की मजबूत टीम खड़ी कर ली है। उनके समर्थन में कई विधानसभा छेत्र से कार्यकर्ता निकल कर सामने आ रहे हैं।

राव दान सिंह के बेटे राव अक्षत की युथ कांग्रेस में सक्रियता भी काम आ रही है। युवाओं की मजबूत टीम के सहारे अक्षत भी पिता के समर्थन में जबरदस्त दावेदारी का दम ठोंक रहे हैं। 

राव दान सिंह के समर्थकों का कहना है कि चुनाव में उनकी अनदेखी कर पाना मुमकिन नही होगा। बीते पांच साल में राव दान सिंह कार्यकर्ताओ के हर सुख दुख में शामिल हुए हैं। राव इंद्रजीत की विफलताओं को उन्होंने बखूबी लोगों के सामने रखा है। किसानों नौजवानों के लिए अलग अलग कार्यक्रम करके उन्होंने कांग्रेस के पक्ष में माहौल बनाने की पुरजोर कोशिश की है।

माना का रहा है कि पार्टी के हैवीवेट नेता और पूर्व मुख्यमंत्री भूपेंद्र सिंह हुड्डा ने भी राव दान सिंह के पक्ष में दांव लगाया है। पार्टी के अन्य गुटों से भी दान सिंह का तालमेल अच्छा रहा है।

सूत्रों ने कहा अगले एक हफ्ते काफी निर्णायक है। पार्टी हरियाणा की सभी सीटों पर जल्द उम्मीदवार तय करने का मन बना रही है।

Tags:

National news State news Gurugram news Political news राव दान सिंह कैप्टन अजय Gurugram Lok sabha seat Lok sabha election 2019
Advertisement