• PNB घोटाला बढ़कर 12700 करोड़ पहुंचा : सरकारी बैंकों को 15 दिन का अल्‍टीमेटम

    PNB घोटाला बढ़कर 12700 करोड़ पहुंचा : सरकारी बैंकों को 15 दिन का अल्‍टीमेटम

    पंजाब नेशनल बैंक घोटाले के बाद अब वित्त मंत्रालय ने एक बड़ा एक्शन लिया है। सरकार ने सिस्टम में खामियों की पहचान करने के लिए पीएसयू बैंकों को कमेटी गठित करने के निर्देश दिए हैं। अब किसी भी बड़ी गड़बड़ी पर बड़े बैंक अधिकारियों की जवाबदेही होगी। पीएसयू बैंकों को ऐसा करने के लिए सिर्फ 15 दिन का वक्त दिया गया है। सरकार ने सभी पीएसयू से कहा है कि वो खामियों का पता लगाने के लिए जल्द से जल्द एक कमेटी का गठन करें। सभी सरकारी बैंकों को अपने कामकाज से जुड़े विवाद निपटाने का निर्देश भी दिया गया है।

  • PNB घोटाला बढ़कर 12700 करोड़ पहुंचा : सरकारी बैंकों को 15 दिन का अल्‍टीमेटम

    PNB घोटाला बढ़कर 12700 करोड़ पहुंचा : सरकारी बैंकों को 15 दिन का अल्‍टीमेटम

    पंजाब नेशनल बैंक घोटाले के बाद अब वित्त मंत्रालय ने एक बड़ा एक्शन लिया है। सरकार ने सिस्टम में खामियों की पहचान करने के लिए पीएसयू बैंकों को कमेटी गठित करने के निर्देश दिए हैं। अब किसी भी बड़ी गड़बड़ी पर बड़े बैंक अधिकारियों की जवाबदेही होगी। पीएसयू बैंकों को ऐसा करने के लिए सिर्फ 15 दिन का वक्त दिया गया है। सरकार ने सभी पीएसयू से कहा है कि वो खामियों का पता लगाने के लिए जल्द से जल्द एक कमेटी का गठन करें। सभी सरकारी बैंकों को अपने कामकाज से जुड़े विवाद निपटाने का निर्देश भी दिया गया है।

  • पंजाब नेशनल बैंक में एक और घोटाला

    पंजाब नेशनल बैंक में एक और घोटाला

    देश भर अब बैक घोटले खुलने लगे है ताज़ा मामला राजस्थान में पंजाब नेशनल बैंक में प्रधान मंत्री मुद्रा योजना में भी शुरू हो गया हे। बैंक के जोधपुर डीजीएम ने बाड़मेर व गागरिया के ब्रांच मैनेजर इंद्रचंद चूंडावत ने एक विधवा के नाम पर फर्जी खाला खोल कर उसमें 1.57 करोड़ से ज्यादा का पैसा जमा कराया। यह पैसा केंद्र सरकार की विभिन्न योजनाओं की सब्सिडी का था। खुद ही खाते से पैसे उठा लेता था। केस वाउचर व अन्य दस्तावेज भी गायब मिले है।

  • पंजाब नेशनल बैंक में एक और घोटाला

    पंजाब नेशनल बैंक में एक और घोटाला

    देश भर अब बैक घोटले खुलने लगे है ताज़ा मामला राजस्थान में पंजाब नेशनल बैंक में प्रधान मंत्री मुद्रा योजना में भी शुरू हो गया हे। बैंक के जोधपुर डीजीएम ने बाड़मेर व गागरिया के ब्रांच मैनेजर इंद्रचंद चूंडावत ने एक विधवा के नाम पर फर्जी खाला खोल कर उसमें 1.57 करोड़ से ज्यादा का पैसा जमा कराया। यह पैसा केंद्र सरकार की विभिन्न योजनाओं की सब्सिडी का था। खुद ही खाते से पैसे उठा लेता था। केस वाउचर व अन्य दस्तावेज भी गायब मिले है।

  • मात्र 1.50 रूपये रोज पर दहाड़ी नौकरी करते थे कोठारी ग्रुप के मालिक

    मात्र 1.50 रूपये रोज पर दहाड़ी नौकरी करते थे कोठारी ग्रुप के मालिक

    केवल 1.25 रुपए की दिहाड़ी मजदूरी पर काम करते थे। 16 वर्ष की उम्र में वह कानपुर चले आए। यहां कुछ अलग करने की हसरत उनके दिल में थी। उनके सपनों को पंख 18 अगस्त 1973 को लगे, जब उन्होंने कोठारी समूह की नींव रखी।

  • मात्र 1.50 रूपये रोज पर दहाड़ी नौकरी करते थे कोठारी ग्रुप के मालिक

    मात्र 1.50 रूपये रोज पर दहाड़ी नौकरी करते थे कोठारी ग्रुप के मालिक

    केवल 1.25 रुपए की दिहाड़ी मजदूरी पर काम करते थे। 16 वर्ष की उम्र में वह कानपुर चले आए। यहां कुछ अलग करने की हसरत उनके दिल में थी। उनके सपनों को पंख 18 अगस्त 1973 को लगे, जब उन्होंने कोठारी समूह की नींव रखी।

  • मात्र 1.50 रूपये रोज पर दहाड़ी नौकरी करते थे कोठारी ग्रुप के मालिक

    मात्र 1.50 रूपये रोज पर दहाड़ी नौकरी करते थे कोठारी ग्रुप के मालिक

    केवल 1.25 रुपए की दिहाड़ी मजदूरी पर काम करते थे। 16 वर्ष की उम्र में वह कानपुर चले आए। यहां कुछ अलग करने की हसरत उनके दिल में थी। उनके सपनों को पंख 18 अगस्त 1973 को लगे, जब उन्होंने कोठारी समूह की नींव रखी।

  • मात्र 1.50 रूपये रोज पर दहाड़ी नौकरी करते थे कोठारी ग्रुप के मालिक

    मात्र 1.50 रूपये रोज पर दहाड़ी नौकरी करते थे कोठारी ग्रुप के मालिक

    केवल 1.25 रुपए की दिहाड़ी मजदूरी पर काम करते थे। 16 वर्ष की उम्र में वह कानपुर चले आए। यहां कुछ अलग करने की हसरत उनके दिल में थी। उनके सपनों को पंख 18 अगस्त 1973 को लगे, जब उन्होंने कोठारी समूह की नींव रखी।

  • पीएनबी शाखा में गहने व सामान से भैरा बैग मिला

    पंजाब नेशनल बैंक की देवसर चुंगी स्थित मुख्य शाखा में 6 मई को उपभोक्ताओं की अधिक भीड़ होने के कारण एक उपभोक्ता गहने व कुछ सामान से भैरा बैग शाखा में ही छोड़ गया है।

Advertisement