• हरियाणा के छोरे जगजीत ने जीता ‘जग’, बॉडी बिल्डिंग में बना मिस्टर वर्ल्ड

    हरियाणा के छोरे जगजीत ने जीता ‘जग’, बॉडी बिल्डिंग में बना मिस्टर वर्ल्ड

    डी बिल्डिंग में इतिहास रचते हुए गांव राठधना के जगजीत सिरोहा ने मिस्टर वर्ल्ड का खिताब जीता है। पहली बार हरियाणा को बॉडी बिल्डिंग में मिस्टर वर्ल्ड का खिताब मिला है। अब जगजीत का अगला लक्ष्य मिस्टर यूनिवर्स चैंपियनशिप है, जिसके लिए वो जी-तोड़ मेहनत करेंगे। उनकी इस उपलब्धि पर पत्नी व मित्रों सहित गांववासियों ने बधाई देते हुए भविष्य के लिए शुभकामनाएं दी। बॉडी बिल्डिंग की हॉबी रखने वाले जगजीत सिरोहा को आज उनकी हॉबी ने अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर विशिष्ट पहचान दी है।

  • हरियाणा के छोरे जगजीत ने जीता ‘जग’, बॉडी बिल्डिंग में बना मिस्टर वर्ल्ड

    हरियाणा के छोरे जगजीत ने जीता ‘जग’, बॉडी बिल्डिंग में बना मिस्टर वर्ल्ड

    डी बिल्डिंग में इतिहास रचते हुए गांव राठधना के जगजीत सिरोहा ने मिस्टर वर्ल्ड का खिताब जीता है। पहली बार हरियाणा को बॉडी बिल्डिंग में मिस्टर वर्ल्ड का खिताब मिला है। अब जगजीत का अगला लक्ष्य मिस्टर यूनिवर्स चैंपियनशिप है, जिसके लिए वो जी-तोड़ मेहनत करेंगे। उनकी इस उपलब्धि पर पत्नी व मित्रों सहित गांववासियों ने बधाई देते हुए भविष्य के लिए शुभकामनाएं दी। बॉडी बिल्डिंग की हॉबी रखने वाले जगजीत सिरोहा को आज उनकी हॉबी ने अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर विशिष्ट पहचान दी है।

  • हरियाणा के छोरे जगजीत ने जीता ‘जग’, बॉडी बिल्डिंग में बना मिस्टर वर्ल्ड

    हरियाणा के छोरे जगजीत ने जीता ‘जग’, बॉडी बिल्डिंग में बना मिस्टर वर्ल्ड

    डी बिल्डिंग में इतिहास रचते हुए गांव राठधना के जगजीत सिरोहा ने मिस्टर वर्ल्ड का खिताब जीता है। पहली बार हरियाणा को बॉडी बिल्डिंग में मिस्टर वर्ल्ड का खिताब मिला है। अब जगजीत का अगला लक्ष्य मिस्टर यूनिवर्स चैंपियनशिप है, जिसके लिए वो जी-तोड़ मेहनत करेंगे। उनकी इस उपलब्धि पर पत्नी व मित्रों सहित गांववासियों ने बधाई देते हुए भविष्य के लिए शुभकामनाएं दी। बॉडी बिल्डिंग की हॉबी रखने वाले जगजीत सिरोहा को आज उनकी हॉबी ने अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर विशिष्ट पहचान दी है।

  • हरियाणा के छोरे जगजीत ने जीता ‘जग’, बॉडी बिल्डिंग में बना मिस्टर वर्ल्ड

    हरियाणा के छोरे जगजीत ने जीता ‘जग’, बॉडी बिल्डिंग में बना मिस्टर वर्ल्ड

    डी बिल्डिंग में इतिहास रचते हुए गांव राठधना के जगजीत सिरोहा ने मिस्टर वर्ल्ड का खिताब जीता है। पहली बार हरियाणा को बॉडी बिल्डिंग में मिस्टर वर्ल्ड का खिताब मिला है। अब जगजीत का अगला लक्ष्य मिस्टर यूनिवर्स चैंपियनशिप है, जिसके लिए वो जी-तोड़ मेहनत करेंगे। उनकी इस उपलब्धि पर पत्नी व मित्रों सहित गांववासियों ने बधाई देते हुए भविष्य के लिए शुभकामनाएं दी। बॉडी बिल्डिंग की हॉबी रखने वाले जगजीत सिरोहा को आज उनकी हॉबी ने अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर विशिष्ट पहचान दी है।

  • सारंडा के जंगलों में यह डॉक्टर करता है नक्सलियों का इलाज

    सारंडा के जंगलों में यह डॉक्टर करता है नक्सलियों का इलाज

    धनबाद में 20 मार्च को गिरफ्तार 25 लाख के इनामी स्पेशल एरिया कमेटी सदस्य राजेश संथाल उर्फ सोनुवा उर्फ टुडू उर्फ प्रभाकर उर्फ हरीश ने विशेष टीम की पूछताछ में अहम जानकारी दी है। उसने सारंडा में सक्रिय हार्डकोर शीर्ष नक्सलियों के बारे में भी बताया है। कहा है कि एक करोड़ के इनामी प्रशांत दा के साथ छत्तीसगढ़ का एक एमबीबीएस डॉक्टर रफीक रहता है, जो इलाज करता है। उसने संगठन के हार्डकोर नक्सली जीवन कंडुलना, सुरेश सिंह मुंडा, टीपू, महाराज प्रमाणिक को भी चिकित्सा करने के लिए प्रशिक्षित कर दिया है, जो बीमार नक्सलियों का इलाज करते हैं। राजेश संथाल ने बताया है कि सारंडा में सक्रिय एक करोड़ के इनामी पोलित ब्यूरो सदस्य मिसिर बेसरा, अनल दा, संदीप, चंचल आदि साहूकारों व बाहरी लोगों से प्रताड़ित होने के बाद ही माओवादियों से जुड़े। ये संगठन में शामिल होकर जन संगठन को मजबूत किए, जन आंदोलन चलाए। माओवादी संगठन में मोबाइल के प्रयोग पर रोक लगाया गया है। कूरियर से संवादों का आदान-प्रदान किया जाता है। संगठन केकई सदस्यों की गिरफ्तारी, आत्मसमर्पण व मुठभेड़ में मारे जाने से संगठन कमजोर हो गया है और सीमित दायरे में सिमट कर रहा गया है।

  • सारंडा के जंगलों में यह डॉक्टर करता है नक्सलियों का इलाज

    सारंडा के जंगलों में यह डॉक्टर करता है नक्सलियों का इलाज

    धनबाद में 20 मार्च को गिरफ्तार 25 लाख के इनामी स्पेशल एरिया कमेटी सदस्य राजेश संथाल उर्फ सोनुवा उर्फ टुडू उर्फ प्रभाकर उर्फ हरीश ने विशेष टीम की पूछताछ में अहम जानकारी दी है। उसने सारंडा में सक्रिय हार्डकोर शीर्ष नक्सलियों के बारे में भी बताया है। कहा है कि एक करोड़ के इनामी प्रशांत दा के साथ छत्तीसगढ़ का एक एमबीबीएस डॉक्टर रफीक रहता है, जो इलाज करता है। उसने संगठन के हार्डकोर नक्सली जीवन कंडुलना, सुरेश सिंह मुंडा, टीपू, महाराज प्रमाणिक को भी चिकित्सा करने के लिए प्रशिक्षित कर दिया है, जो बीमार नक्सलियों का इलाज करते हैं। राजेश संथाल ने बताया है कि सारंडा में सक्रिय एक करोड़ के इनामी पोलित ब्यूरो सदस्य मिसिर बेसरा, अनल दा, संदीप, चंचल आदि साहूकारों व बाहरी लोगों से प्रताड़ित होने के बाद ही माओवादियों से जुड़े। ये संगठन में शामिल होकर जन संगठन को मजबूत किए, जन आंदोलन चलाए। माओवादी संगठन में मोबाइल के प्रयोग पर रोक लगाया गया है। कूरियर से संवादों का आदान-प्रदान किया जाता है। संगठन केकई सदस्यों की गिरफ्तारी, आत्मसमर्पण व मुठभेड़ में मारे जाने से संगठन कमजोर हो गया है और सीमित दायरे में सिमट कर रहा गया है।

  • सारंडा के जंगलों में यह डॉक्टर करता है नक्सलियों का इलाज

    सारंडा के जंगलों में यह डॉक्टर करता है नक्सलियों का इलाज

    धनबाद में 20 मार्च को गिरफ्तार 25 लाख के इनामी स्पेशल एरिया कमेटी सदस्य राजेश संथाल उर्फ सोनुवा उर्फ टुडू उर्फ प्रभाकर उर्फ हरीश ने विशेष टीम की पूछताछ में अहम जानकारी दी है। उसने सारंडा में सक्रिय हार्डकोर शीर्ष नक्सलियों के बारे में भी बताया है। कहा है कि एक करोड़ के इनामी प्रशांत दा के साथ छत्तीसगढ़ का एक एमबीबीएस डॉक्टर रफीक रहता है, जो इलाज करता है। उसने संगठन के हार्डकोर नक्सली जीवन कंडुलना, सुरेश सिंह मुंडा, टीपू, महाराज प्रमाणिक को भी चिकित्सा करने के लिए प्रशिक्षित कर दिया है, जो बीमार नक्सलियों का इलाज करते हैं। राजेश संथाल ने बताया है कि सारंडा में सक्रिय एक करोड़ के इनामी पोलित ब्यूरो सदस्य मिसिर बेसरा, अनल दा, संदीप, चंचल आदि साहूकारों व बाहरी लोगों से प्रताड़ित होने के बाद ही माओवादियों से जुड़े। ये संगठन में शामिल होकर जन संगठन को मजबूत किए, जन आंदोलन चलाए। माओवादी संगठन में मोबाइल के प्रयोग पर रोक लगाया गया है। कूरियर से संवादों का आदान-प्रदान किया जाता है। संगठन केकई सदस्यों की गिरफ्तारी, आत्मसमर्पण व मुठभेड़ में मारे जाने से संगठन कमजोर हो गया है और सीमित दायरे में सिमट कर रहा गया है।

  • सारंडा के जंगलों में यह डॉक्टर करता है नक्सलियों का इलाज

    सारंडा के जंगलों में यह डॉक्टर करता है नक्सलियों का इलाज

    धनबाद में 20 मार्च को गिरफ्तार 25 लाख के इनामी स्पेशल एरिया कमेटी सदस्य राजेश संथाल उर्फ सोनुवा उर्फ टुडू उर्फ प्रभाकर उर्फ हरीश ने विशेष टीम की पूछताछ में अहम जानकारी दी है। उसने सारंडा में सक्रिय हार्डकोर शीर्ष नक्सलियों के बारे में भी बताया है। कहा है कि एक करोड़ के इनामी प्रशांत दा के साथ छत्तीसगढ़ का एक एमबीबीएस डॉक्टर रफीक रहता है, जो इलाज करता है। उसने संगठन के हार्डकोर नक्सली जीवन कंडुलना, सुरेश सिंह मुंडा, टीपू, महाराज प्रमाणिक को भी चिकित्सा करने के लिए प्रशिक्षित कर दिया है, जो बीमार नक्सलियों का इलाज करते हैं। राजेश संथाल ने बताया है कि सारंडा में सक्रिय एक करोड़ के इनामी पोलित ब्यूरो सदस्य मिसिर बेसरा, अनल दा, संदीप, चंचल आदि साहूकारों व बाहरी लोगों से प्रताड़ित होने के बाद ही माओवादियों से जुड़े। ये संगठन में शामिल होकर जन संगठन को मजबूत किए, जन आंदोलन चलाए। माओवादी संगठन में मोबाइल के प्रयोग पर रोक लगाया गया है। कूरियर से संवादों का आदान-प्रदान किया जाता है। संगठन केकई सदस्यों की गिरफ्तारी, आत्मसमर्पण व मुठभेड़ में मारे जाने से संगठन कमजोर हो गया है और सीमित दायरे में सिमट कर रहा गया है।

  • सारंडा के जंगलों में यह डॉक्टर करता है नक्सलियों का इलाज

    सारंडा के जंगलों में यह डॉक्टर करता है नक्सलियों का इलाज

    धनबाद में 20 मार्च को गिरफ्तार 25 लाख के इनामी स्पेशल एरिया कमेटी सदस्य राजेश संथाल उर्फ सोनुवा उर्फ टुडू उर्फ प्रभाकर उर्फ हरीश ने विशेष टीम की पूछताछ में अहम जानकारी दी है। उसने सारंडा में सक्रिय हार्डकोर शीर्ष नक्सलियों के बारे में भी बताया है। कहा है कि एक करोड़ के इनामी प्रशांत दा के साथ छत्तीसगढ़ का एक एमबीबीएस डॉक्टर रफीक रहता है, जो इलाज करता है। उसने संगठन के हार्डकोर नक्सली जीवन कंडुलना, सुरेश सिंह मुंडा, टीपू, महाराज प्रमाणिक को भी चिकित्सा करने के लिए प्रशिक्षित कर दिया है, जो बीमार नक्सलियों का इलाज करते हैं। राजेश संथाल ने बताया है कि सारंडा में सक्रिय एक करोड़ के इनामी पोलित ब्यूरो सदस्य मिसिर बेसरा, अनल दा, संदीप, चंचल आदि साहूकारों व बाहरी लोगों से प्रताड़ित होने के बाद ही माओवादियों से जुड़े। ये संगठन में शामिल होकर जन संगठन को मजबूत किए, जन आंदोलन चलाए। माओवादी संगठन में मोबाइल के प्रयोग पर रोक लगाया गया है। कूरियर से संवादों का आदान-प्रदान किया जाता है। संगठन केकई सदस्यों की गिरफ्तारी, आत्मसमर्पण व मुठभेड़ में मारे जाने से संगठन कमजोर हो गया है और सीमित दायरे में सिमट कर रहा गया है।

  • केंद्र का जोसेफ को सर्वोच्च न्यायालय का न्यायाधीश नियुक्त करने से फिर इंकार

    केंद्र का जोसेफ को सर्वोच्च न्यायालय का न्यायाधीश नियुक्त करने से फिर इंकार

    केंद्र सरकार ने उत्तराखंड उच्च न्यायालय के मुख्य न्यायाधीश के.एम. जोसेफ को सर्वोच्च न्यायालय का न्यायाधीश बनाए जाने संबंधी कॉलेजियम की सिफारिश को वापस भेज दिया है। विधि मंत्रालय के सूत्रों ने आज यहां बताया कि केंद्र सरकार ने सुप्रीम कोर्ट कॉलेजियम से न्यायमूर्ति जोसेफ के नाम पर एक बार फिर से विचार करने को कहा है।

Advertisement