• इस बात ने भी कर दी बुआ और बबुआ का गठबंधन टूटने की पुष्टि

    इस बात ने भी कर दी बुआ और बबुआ का गठबंधन टूटने की पुष्टि

    लोकसभा चुनाव से पहले उत्तर प्रदेश में जिस उत्साह के साथ बुआ और भतीजे साथ आए थे, अब चुनाव में मुंह की खाने के बाद दोनों की राहें अलग होती दिख रही हैं.

  • सपा-बसपा गठबंधन टूट की कगार पर, पासवान ने ली चुटकी

    सपा-बसपा गठबंधन टूट की कगार पर, पासवान ने ली चुटकी

    पूर्व मुख्यमंत्री और बहुजन समाज पार्टी प्रमुख मायावती के लोकसभा चुनाव के नतीजों के बाद पार्टी नेताओं के साथ बैठक के दौरान समाजवादी पार्टी के साथ 5 महीने पुराने गठबंधन की समीक्षा करने की बात कहे जाने के बाद अब इस राजनीतिक गठबंधन के भविष्य पर सवाल उठने लगे हैं. मायावती के बयान के बाद अब केंद्रीय मंत्री रामविलास पासवान ने कहा है कि उन्होंने पहले ही कह दिया था कि चुनाव बाद सपा-बसपा गठबंधन टूट जाएगा.

  • सपा-बसपा गठबंधन टूट की कगार पर, पासवान ने ली चुटकी

    सपा-बसपा गठबंधन टूट की कगार पर, पासवान ने ली चुटकी

    पूर्व मुख्यमंत्री और बहुजन समाज पार्टी प्रमुख मायावती के लोकसभा चुनाव के नतीजों के बाद पार्टी नेताओं के साथ बैठक के दौरान समाजवादी पार्टी के साथ 5 महीने पुराने गठबंधन की समीक्षा करने की बात कहे जाने के बाद अब इस राजनीतिक गठबंधन के भविष्य पर सवाल उठने लगे हैं. मायावती के बयान के बाद अब केंद्रीय मंत्री रामविलास पासवान ने कहा है कि उन्होंने पहले ही कह दिया था कि चुनाव बाद सपा-बसपा गठबंधन टूट जाएगा.

  • सपा-बसपा गठबंधन टूट की कगार पर, पासवान ने ली चुटकी

    सपा-बसपा गठबंधन टूट की कगार पर, पासवान ने ली चुटकी

    पूर्व मुख्यमंत्री और बहुजन समाज पार्टी प्रमुख मायावती के लोकसभा चुनाव के नतीजों के बाद पार्टी नेताओं के साथ बैठक के दौरान समाजवादी पार्टी के साथ 5 महीने पुराने गठबंधन की समीक्षा करने की बात कहे जाने के बाद अब इस राजनीतिक गठबंधन के भविष्य पर सवाल उठने लगे हैं. मायावती के बयान के बाद अब केंद्रीय मंत्री रामविलास पासवान ने कहा है कि उन्होंने पहले ही कह दिया था कि चुनाव बाद सपा-बसपा गठबंधन टूट जाएगा.

  • सपा-बसपा गठबंधन टूट की कगार पर, पासवान ने ली चुटकी

    सपा-बसपा गठबंधन टूट की कगार पर, पासवान ने ली चुटकी

    पूर्व मुख्यमंत्री और बहुजन समाज पार्टी प्रमुख मायावती के लोकसभा चुनाव के नतीजों के बाद पार्टी नेताओं के साथ बैठक के दौरान समाजवादी पार्टी के साथ 5 महीने पुराने गठबंधन की समीक्षा करने की बात कहे जाने के बाद अब इस राजनीतिक गठबंधन के भविष्य पर सवाल उठने लगे हैं. मायावती के बयान के बाद अब केंद्रीय मंत्री रामविलास पासवान ने कहा है कि उन्होंने पहले ही कह दिया था कि चुनाव बाद सपा-बसपा गठबंधन टूट जाएगा.

  • ...तो क्या ये सोची-समझी चाल थी, मुलायम बोले-अखिलेश ही होंगे अगले CM

    ...तो क्या ये सोची-समझी चाल थी, मुलायम बोले-अखिलेश ही होंगे अगले CM

    ये तो सब जानते हैं कि राजनीती में लोग गिरगिट की तरह रंग बदलते हैं। लेकिन पिछले 2 महीनों में समाजवादी पार्टी के सुप्रीमो मुलायम सिंह यादव ने जितने रंग बदले हैं उसे देखकर तो बेचारा गिरगिट भी शरमा जाए।

  • ...तो क्या ये सोची-समझी चाल थी, मुलायम बोले-अखिलेश ही होंगे अगले CM

    ...तो क्या ये सोची-समझी चाल थी, मुलायम बोले-अखिलेश ही होंगे अगले CM

    ये तो सब जानते हैं कि राजनीती में लोग गिरगिट की तरह रंग बदलते हैं। लेकिन पिछले 2 महीनों में समाजवादी पार्टी के सुप्रीमो मुलायम सिंह यादव ने जितने रंग बदले हैं उसे देखकर तो बेचारा गिरगिट भी शरमा जाए।

  • ...तो क्या ये सोची-समझी चाल थी, मुलायम बोले-अखिलेश ही होंगे अगले CM

    ...तो क्या ये सोची-समझी चाल थी, मुलायम बोले-अखिलेश ही होंगे अगले CM

    ये तो सब जानते हैं कि राजनीती में लोग गिरगिट की तरह रंग बदलते हैं। लेकिन पिछले 2 महीनों में समाजवादी पार्टी के सुप्रीमो मुलायम सिंह यादव ने जितने रंग बदले हैं उसे देखकर तो बेचारा गिरगिट भी शरमा जाए।

  • ...तो क्या ये सोची-समझी चाल थी, मुलायम बोले-अखिलेश ही होंगे अगले CM

    ...तो क्या ये सोची-समझी चाल थी, मुलायम बोले-अखिलेश ही होंगे अगले CM

    ये तो सब जानते हैं कि राजनीती में लोग गिरगिट की तरह रंग बदलते हैं। लेकिन पिछले 2 महीनों में समाजवादी पार्टी के सुप्रीमो मुलायम सिंह यादव ने जितने रंग बदले हैं उसे देखकर तो बेचारा गिरगिट भी शरमा जाए।

  • चुनावी 'घोषणा पत्र’ पूरा न करने पर दर्ज हो FIR

    चुनावी 'घोषणा पत्र’ पूरा न करने पर दर्ज हो FIR

    चुनाव घोषणा पत्र में घोषित सारी बातें जनता ध्यानूपर्वक पढ़े और इससे पहले चुनावो में उस दल ने क्या घोषणायें की थी उस से उनका मिलान करे। उन घोषणाओं में कितनी योजनाओं को उन्होंने लागू किया और कितनी नहीं, उसका मूल्यांकन करें और उम्मीदवारों से जवाब मांगे कि जो योजनायें उन्होंने पिछले चुनाव में घोषित की थी वह क्यों नहीं पूरी की गयी। मुझे ऐसा लगता है कि चुनावी घोषणा पत्र को राजनैतिक पार्टियों ने ही एक मजाक का विषय बना दिया है।

Advertisement