• गुडगाँव से सोनू ठाकरान होंगे इनेलो के प्रत्याक्षी 

    गुडगाँव से सोनू ठाकरान होंगे इनेलो के प्रत्याक्षी 

    झाड़सा निवासी सोनू ठाकरान को उतारा है सोनू ने एमबीए की शिक्षा हासिल की है इनके पिता दयाचंद्र ठाकरान डाक विभाग से सेवानिर्वत (रिटायर्ड) है सोनू काफी दिनों से

  • गुडगाँव से सोनू ठाकरान होंगे इनेलो के प्रत्याक्षी 

    गुडगाँव से सोनू ठाकरान होंगे इनेलो के प्रत्याक्षी 

    झाड़सा निवासी सोनू ठाकरान को उतारा है सोनू ने एमबीए की शिक्षा हासिल की है इनके पिता दयाचंद्र ठाकरान डाक विभाग से सेवानिर्वत (रिटायर्ड) है सोनू काफी दिनों से

  • गुड़गांव में अपनी साख बचा पाएगी इनेलो!

    गुड़गांव में अपनी साख बचा पाएगी इनेलो!

    गुड़गांव लोकसभा चुनाव में इनेलो कोई दमदार उपस्थिति दिखा पाएगी, इसको लेकर संशय है। इनेलो ने अपेक्षाकृत नए व्यक्ति पर दांव लगाकर मैदान में डटे रहने की कोशिश तो की है लेकिन उससे अलग हुई जेजेपी ने अपनी मूल पार्टी की तुलना में बेहतर उम्मीदवार उतारकर जो दांव खेला है उससे कांग्रेस में भी बैचैनी है। यह स्थिति भाजपा के लिए सकूं देने वाली हो सकती है।

  • गुड़गांव में अपनी साख बचा पाएगी इनेलो!

    गुड़गांव में अपनी साख बचा पाएगी इनेलो!

    गुड़गांव लोकसभा चुनाव में इनेलो कोई दमदार उपस्थिति दिखा पाएगी, इसको लेकर संशय है। इनेलो ने अपेक्षाकृत नए व्यक्ति पर दांव लगाकर मैदान में डटे रहने की कोशिश तो की है लेकिन उससे अलग हुई जेजेपी ने अपनी मूल पार्टी की तुलना में बेहतर उम्मीदवार उतारकर जो दांव खेला है उससे कांग्रेस में भी बैचैनी है। यह स्थिति भाजपा के लिए सकूं देने वाली हो सकती है।

  • गुड़गांव में अपनी साख बचा पाएगी इनेलो!

    गुड़गांव में अपनी साख बचा पाएगी इनेलो!

    गुड़गांव लोकसभा चुनाव में इनेलो कोई दमदार उपस्थिति दिखा पाएगी, इसको लेकर संशय है। इनेलो ने अपेक्षाकृत नए व्यक्ति पर दांव लगाकर मैदान में डटे रहने की कोशिश तो की है लेकिन उससे अलग हुई जेजेपी ने अपनी मूल पार्टी की तुलना में बेहतर उम्मीदवार उतारकर जो दांव खेला है उससे कांग्रेस में भी बैचैनी है। यह स्थिति भाजपा के लिए सकूं देने वाली हो सकती है।

  • गुड़गांव में अपनी साख बचा पाएगी इनेलो!

    गुड़गांव में अपनी साख बचा पाएगी इनेलो!

    गुड़गांव लोकसभा चुनाव में इनेलो कोई दमदार उपस्थिति दिखा पाएगी, इसको लेकर संशय है। इनेलो ने अपेक्षाकृत नए व्यक्ति पर दांव लगाकर मैदान में डटे रहने की कोशिश तो की है लेकिन उससे अलग हुई जेजेपी ने अपनी मूल पार्टी की तुलना में बेहतर उम्मीदवार उतारकर जो दांव खेला है उससे कांग्रेस में भी बैचैनी है। यह स्थिति भाजपा के लिए सकूं देने वाली हो सकती है।

  • गुड़गांव में अपनी साख बचा पाएगी इनेलो!

    गुड़गांव में अपनी साख बचा पाएगी इनेलो!

    गुड़गांव लोकसभा चुनाव में इनेलो कोई दमदार उपस्थिति दिखा पाएगी, इसको लेकर संशय है। इनेलो ने अपेक्षाकृत नए व्यक्ति पर दांव लगाकर मैदान में डटे रहने की कोशिश तो की है लेकिन उससे अलग हुई जेजेपी ने अपनी मूल पार्टी की तुलना में बेहतर उम्मीदवार उतारकर जो दांव खेला है उससे कांग्रेस में भी बैचैनी है। यह स्थिति भाजपा के लिए सकूं देने वाली हो सकती है।

  • आखिर क्या है चुनाव से पहले अभय सिंह की मनोहर लाल से गुपचुप मुलाकात के मायने?

    आखिर क्या है चुनाव से पहले अभय सिंह की मनोहर लाल से गुपचुप मुलाकात के मायने?

    इंडियन नेशनल लोकदल के वरिष्‍ठ नेता अभय सिंह चौटाला और पार्टी के प्रदेश प्रधान डॉ. अशोक अरोड़ा ने सोमवार सुबह हरियाणा के मुख्‍यमंत्री मनोहरलाल से मुलाकात की। दाेनोें नेता मुख्‍यमंत्री से नई दिल्‍ली के हरियाणा भवन में मिले। इस मुलाकात के बाद राजनीतिक कयासबाजी का दौर शुरू हो गया है। अभय चौटाला ने कहा है कि यह निजी मुलाकात थी और इसका राजनी‍ति से कोई लेना-देना नहीं है।

  • आखिर क्या है चुनाव से पहले अभय सिंह की मनोहर लाल से गुपचुप मुलाकात के मायने?

    आखिर क्या है चुनाव से पहले अभय सिंह की मनोहर लाल से गुपचुप मुलाकात के मायने?

    इंडियन नेशनल लोकदल के वरिष्‍ठ नेता अभय सिंह चौटाला और पार्टी के प्रदेश प्रधान डॉ. अशोक अरोड़ा ने सोमवार सुबह हरियाणा के मुख्‍यमंत्री मनोहरलाल से मुलाकात की। दाेनोें नेता मुख्‍यमंत्री से नई दिल्‍ली के हरियाणा भवन में मिले। इस मुलाकात के बाद राजनीतिक कयासबाजी का दौर शुरू हो गया है। अभय चौटाला ने कहा है कि यह निजी मुलाकात थी और इसका राजनी‍ति से कोई लेना-देना नहीं है।

  • आखिर क्या है चुनाव से पहले अभय सिंह की मनोहर लाल से गुपचुप मुलाकात के मायने?

    आखिर क्या है चुनाव से पहले अभय सिंह की मनोहर लाल से गुपचुप मुलाकात के मायने?

    इंडियन नेशनल लोकदल के वरिष्‍ठ नेता अभय सिंह चौटाला और पार्टी के प्रदेश प्रधान डॉ. अशोक अरोड़ा ने सोमवार सुबह हरियाणा के मुख्‍यमंत्री मनोहरलाल से मुलाकात की। दाेनोें नेता मुख्‍यमंत्री से नई दिल्‍ली के हरियाणा भवन में मिले। इस मुलाकात के बाद राजनीतिक कयासबाजी का दौर शुरू हो गया है। अभय चौटाला ने कहा है कि यह निजी मुलाकात थी और इसका राजनी‍ति से कोई लेना-देना नहीं है।

Advertisement