• अलग नीति के तहत हरियाणा के 15 से 29 साल के युवाओं को मिलेगा आरक्षण

    अलग नीति के तहत हरियाणा के 15 से 29 साल के युवाओं को मिलेगा आरक्षण

    चुनावी मोड में आ चुकी प्रदेश सरकार ने युवाओं और किसानों पर खास फोकस किया है। प्रदेश में पहली बार 15 से 29 साल के युवाओं के विकास के लिए हरियाणा राज्य युवा नीति को मंजूरी मिली है।

  • अलग नीति के तहत हरियाणा के 15 से 29 साल के युवाओं को मिलेगा आरक्षण

    अलग नीति के तहत हरियाणा के 15 से 29 साल के युवाओं को मिलेगा आरक्षण

    चुनावी मोड में आ चुकी प्रदेश सरकार ने युवाओं और किसानों पर खास फोकस किया है। प्रदेश में पहली बार 15 से 29 साल के युवाओं के विकास के लिए हरियाणा राज्य युवा नीति को मंजूरी मिली है।

  • अलग नीति के तहत हरियाणा के 15 से 29 साल के युवाओं को मिलेगा आरक्षण

    अलग नीति के तहत हरियाणा के 15 से 29 साल के युवाओं को मिलेगा आरक्षण

    चुनावी मोड में आ चुकी प्रदेश सरकार ने युवाओं और किसानों पर खास फोकस किया है। प्रदेश में पहली बार 15 से 29 साल के युवाओं के विकास के लिए हरियाणा राज्य युवा नीति को मंजूरी मिली है।

  • जीएसटी के विज्ञापन पर सरकार ने किए 132.38 करोड़ रुपये खर्च

    जीएसटी के विज्ञापन पर सरकार ने किए 132.38 करोड़ रुपये खर्च

    माल एवं सेवाकर (जीएसटी) के विज्ञापन पर सरकार ने 132.38 करोड़ रुपये खर्च किए हैं। सूचना एवं प्रसारण मंत्रालय के तहत काम करने वाली एक एजेंसी ने एक आरटीआई के जवाब में यह जानकारी दी है।

  • देश में घोटाले की बहार, अब 32 सौ करोड़ का टीडीएस घोटाला!

    देश में घोटाले की बहार, अब 32 सौ करोड़ का टीडीएस घोटाला!

    इस समय देश में एक के बाद एक नए घोटाले रोजाना सामने आ रहे हैं। अब आयकर विभाग ने एक नया घोटाला उजागर किया है। यह घोटाला 3,200 करोड़ रुपये का टीडीएस से जुड़ा हुआ है। आयकर विभाग ने ऐसी 447 कंपनियों को पता किया है जिन्होंने अपनी कर्मचारियों से तो टैक्स काट लिया, लेकिन उसे सरकार के पास जमा नहीं करवाया। इन कंपनियों ने कर्मचारियों के काटे गए टीडीएस को अपने व्यवसाय में लगा डाला।

  • देश में घोटाले की बहार, अब 32 सौ करोड़ का टीडीएस घोटाला!

    देश में घोटाले की बहार, अब 32 सौ करोड़ का टीडीएस घोटाला!

    इस समय देश में एक के बाद एक नए घोटाले रोजाना सामने आ रहे हैं। अब आयकर विभाग ने एक नया घोटाला उजागर किया है। यह घोटाला 3,200 करोड़ रुपये का टीडीएस से जुड़ा हुआ है। आयकर विभाग ने ऐसी 447 कंपनियों को पता किया है जिन्होंने अपनी कर्मचारियों से तो टैक्स काट लिया, लेकिन उसे सरकार के पास जमा नहीं करवाया। इन कंपनियों ने कर्मचारियों के काटे गए टीडीएस को अपने व्यवसाय में लगा डाला।

  • देश में घोटाले की बहार, अब 32 सौ करोड़ का टीडीएस घोटाला!

    देश में घोटाले की बहार, अब 32 सौ करोड़ का टीडीएस घोटाला!

    इस समय देश में एक के बाद एक नए घोटाले रोजाना सामने आ रहे हैं। अब आयकर विभाग ने एक नया घोटाला उजागर किया है। यह घोटाला 3,200 करोड़ रुपये का टीडीएस से जुड़ा हुआ है। आयकर विभाग ने ऐसी 447 कंपनियों को पता किया है जिन्होंने अपनी कर्मचारियों से तो टैक्स काट लिया, लेकिन उसे सरकार के पास जमा नहीं करवाया। इन कंपनियों ने कर्मचारियों के काटे गए टीडीएस को अपने व्यवसाय में लगा डाला।

  • देश में घोटाले की बहार, अब 32 सौ करोड़ का टीडीएस घोटाला!

    देश में घोटाले की बहार, अब 32 सौ करोड़ का टीडीएस घोटाला!

    इस समय देश में एक के बाद एक नए घोटाले रोजाना सामने आ रहे हैं। अब आयकर विभाग ने एक नया घोटाला उजागर किया है। यह घोटाला 3,200 करोड़ रुपये का टीडीएस से जुड़ा हुआ है। आयकर विभाग ने ऐसी 447 कंपनियों को पता किया है जिन्होंने अपनी कर्मचारियों से तो टैक्स काट लिया, लेकिन उसे सरकार के पास जमा नहीं करवाया। इन कंपनियों ने कर्मचारियों के काटे गए टीडीएस को अपने व्यवसाय में लगा डाला।

  • देश में घोटाले की बहार, अब 32 सौ करोड़ का टीडीएस घोटाला!

    देश में घोटाले की बहार, अब 32 सौ करोड़ का टीडीएस घोटाला!

    इस समय देश में एक के बाद एक नए घोटाले रोजाना सामने आ रहे हैं। अब आयकर विभाग ने एक नया घोटाला उजागर किया है। यह घोटाला 3,200 करोड़ रुपये का टीडीएस से जुड़ा हुआ है। आयकर विभाग ने ऐसी 447 कंपनियों को पता किया है जिन्होंने अपनी कर्मचारियों से तो टैक्स काट लिया, लेकिन उसे सरकार के पास जमा नहीं करवाया। इन कंपनियों ने कर्मचारियों के काटे गए टीडीएस को अपने व्यवसाय में लगा डाला।

  • हिमाचल में करीब 6 हजार करोड़ घोटाला सामने आया, आरोपी 4 साल से फरार

    हिमाचल में करीब 6 हजार करोड़ घोटाला सामने आया, आरोपी 4 साल से फरार

    हिमाचल प्रदेश में करीब 6000 करोड़ रुपए का टैक्स घोटाला सामने आया है. राज्य सरकार के सूत्रों के मुताबिक हिमाचल प्रदेश के सिरमौर जिला के पावटा क्षेत्र में एक औद्योगिक इकाई के मालिक डॉ. राकेश शर्मा की कंपनी ने विशेष औद्योगिक पैकेज की आड़ में इस घोटाले को अंजाम दिया. सरकारी सूत्रों के मुताबिक इंडियन टेक्नोमेक कंपनी लिमिटेड ने वर्ष 2009 से 2015 के बीच उत्पादन के जाली आंकड़ों के आधार पर करीब 2100 करोड़ रुपए का बिक्री कर और एक्साइज ड्यूटी का घोटाला किया जो अब बढ़कर करीब 6000 करोड़ रुपए हो गया है. इसमें बैंकों से लिया गया कर्ज, उसका ब्याज और आयकर भी शामिल है. सूत्रों की मानें, तो घोटाले की राशि और अधिक हो सकती है. रअसल यह कर चोरी का मामला वर्ष 2014 में सामने आया था

Advertisement