रमन मंत्रिपरिषद की बैठक में लिए गए कई महत्वपूर्ण निर्णय

रमन मंत्रिपरिषद की बैठक में लिए गए कई महत्वपूर्ण निर्णय
Advertisement

धान और मक्का खरीदी एक नवम्बर से

रायपुर:  मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह की अध्यक्षता में आज यहां उनके निवास कार्यालय में आयोजित मंत्रिपरिषद की बैठक में कई महत्वपूर्ण निर्णय लिए गए। बैठक के बाद खाद्य, नागरिक आपूर्ति एवं उपभोक्ता संरक्षण मंत्री पुन्नूलाल मोहले ने केबिनेट के फैसलों की जानकारी दी।

 

श्री मोहले ने बताया कि बैठक में खरीफ विपणन वर्ष 2018-19 के लिए समर्थन मूल्य पर किसानों से धान एवं मक्का खरीदी तथा उपार्जित धान की कस्टम मिलिंग की नीति तय की गई। इस संबंध में मंत्रिमण्डलीय उप समिति की अनुशंसाओं का अनुमोदन किया गया। भारत सरकार द्वारा इस वर्ष 2018-19 के लिए औसत अच्छे किस्म के कॉमन धान के लिए 1750 रूपए और ए-ग्रेड धान के लिए 1770 रूपए प्रति क्विंटल समर्थन मूल्य तय किया गया है। मक्के के लिए 1700 रूपए प्रति क्ंिवंटल समर्थन मूल्य होगा।

Advertisement

 

मंत्रिपरिषद के निर्णय के अनुसार सहकारी समितियों के उपार्जन केन्द्रों में धान खरीदी नगद और लिंकिंग में एक नवम्बर 2018 से शुरू की जाएगी और 31 जनवरी 2019 तक चलेगी। मक्के की खरीदी लिकिंग सहित एक नवम्बर 2018 से 31 मई 2019 तक होगी। धान खरीदी की अधिकतम सीमा लिकिंग सहित 15 क्विंटल प्रति एकड़ और मक्का खरीदी की अधिकतम सीमा लिंिकंग सहित 10 क्विंटल प्रति एकड़ तय की गई है।

 

Advertisement

पिछले वर्ष धान और मक्के की खरीदी 15 नवम्बर 2017 से शुरू की गई थी। इस वर्ष 15 दिन पहले एक नवम्बर से खरीदी शुरू की जा रही है। धान उपार्जन के लिए किसानों का पंजीयन किया जा रहा है। पिछले वर्ष मक्के की अच्छी आवक हुई थी। इसे ध्यान में रखकर इस वर्ष पहली बार मक्का किसानों का भी पंजीयन करने का निर्णय लिया गया। धान खरीदी की तरह ही मक्का खरीदी का भुगतान सीधे उनके खाते में डिजिटल तरीके से किया जाएगा। 

 

धान की कस्टम मिलिंग के संबंध में उन्होंने बताया कि विगत खरीफ विपणन वर्ष 2017-18 में भारत सरकार द्वारा अरवा कस्टम मिलिंग हेतु 10 रूपए प्रति क्विंटल तथा उसना कस्टम मिलिंग हेतु 20 रूपए प्रति क्विंटल की दर निर्धारित की गई थी। मंत्रिपरिषद ने आज यह भी निर्णय लिया कि मिलरों को खरीफ विपणन वर्ष 2018-19 में विगत वर्ष 2017-18 की तरह अरवा एवं उसना मिलिंग हेतु भारत सरकार द्वारा निर्धारित मिलिंग दर के अतिरिक्त मिलिंग चार्ज प्रोत्साहन राशि दी जाए।

Tags:

Localnewsofindia
Advertisement