गुरुग्राम: हर चौथे दिन एक मासूम के साथ रेप या उत्पीडऩ का मामला होता है दर्ज

गुरुग्राम: हर चौथे दिन एक मासूम के साथ रेप या उत्पीडऩ का मामला होता है दर्ज
Advertisement

गुरूग्राम
मिलेनियम सिटी में छोटे बच्चों व बच्चियों की सुरक्षा सवालों के घेरे में नजर आ रही है। गुरुग्राम सिटी के विभिन्न थाना इलाकों में बीते छह महीनों के दौरान 120 से ज्यादा यौन शोषण व उत्पीडऩ के मामले दर्ज किए गए हैं। यानी साइबर सिटी में हर 4 दिन में एक बच्चे या बच्ची के साथ यौन शोषण या उत्पीडऩ की वारदात को अंजाम दिया जा रहा है। पुलिस के मुताबिक, 2017 में यह आंकड़ा 81 तक सीमित था, लेकिन 2018 में सिर्फ छह महीनों के दौरान 120 मामले अभी तक दर्ज किए जा चुके हंै। जो अपने आप में भयावह स्थिति जरूर बयान कर रहे हैं। जनवरी 2018 से जून 2018 तक छह माह में गैंगरेप के छह, महिलाओं से रेप के 53 व पोस्को एक्ट के तहत 60 मामले गुरूग्राम के विभिन्न थानों में दर्ज किए जा चुके हैं। वही इन संवेदनशील मामलो में मशहूर मनोवैज्ञानिक डॉक्टर ब्रह्मदीप संन्धु ने बताया कि ऐसे शातिरों का बेहद आसान शिकार वे बच्चे होते हैं जो किसीं को जल्दी से अपने साथ हुई हैवानियत बयां तक नहीं कर पाते हैं। लगातार बढ़ते एकल परिवारों के चलन के कारण समस्या और ज्यादा बढ़ती जा रही है हम लोग जल्द ही किसीं पर भी विश्वास कर लेते है और अंजाम बहुत भयावह होता हैं। वहीं इस मामले में पुलिस के अनुसार, मासूमों के साथ हुई ज्यादातर वारदातों में कोई सगा, परिचित, किरायेदार ही शामिल पाए गए। इन भयावह आकड़ों के बाद कहीं न कहीं बड़ी जिम्मेदारी हमारी भी बनती है कि अपने बच्चों व बच्चियों को गुड टच और बैड टच के अलावा किसीं भी अजनबी, या किरायेदार पर एकदम से विश्वास न करें। न ही बच्चों को बिना देख-रेख के कहीं खेलने या घूमने के लिए न छोड़ें।

Tags:

#crime gurgaon khabarlive,
Advertisement