प्रदूषण विभाग ने दिया हरियाणा की 336 कंपनियों को सील करने का आदेश

प्रदूषण विभाग ने दिया हरियाणा की 336 कंपनियों को सील करने का आदेश
Advertisement

चंडीगढ़: हवा और पानी में जहर घोल रहीं 336 औद्योगिक कंपनियों को हरियाणा राज्य प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड (HSPCB) ने बंद करने के निर्देश दिए हैं। इनमें 256 फैक्ट्रियां बोर्ड की मंजूरी के बिना चल रही थीं, जबकि 80 इकाइयां नदियों में प्रदूषित और अनुपचारित पानी छोड़ रही थी। नेशनल ग्रीन ट्रिब्यूनल (NGT) के निर्देश पर इन कंपनियों के खिलाफ यह कार्रवाई हुई।

बता दें कि NGT ने राज्य प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड को निर्देश दिया हुआ है कि आवासीय क्षेत्रों में संचालित या फिर नदियों को प्रदूषित कर रही औद्योगिक इकाइयों को तुरंत प्रभाव से बंद कराया जाए। इस पर बोर्ड ने पिछले दिनों भी 70 उद्योगों को बंद करा दिया था।

प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड ने प्रदूषण फैला रही इन फैक्ट्रियों को दो श्रेणियां में बांटा है। पहली वे जो आवश्यक लाइसेंस और अनुमति के साथ चलाई जा रही थी, लेकिन नियमों का पालन नहीं किया। दूसरी श्रेणी में वे फैक्ट्रियां हैं, जिन्हें बगैर किसी मंजूरी के अवैध रूप से संचालित किया जा रहा था।

Advertisement

अवैध उद्योगों में गुरुग्राम शीर्ष पर है, जहां 112 फैक्ट्रियां नियमों को ताक पर रखकर चलती रहीं। फरीदाबाद और पानीपत में ऐसी 34-34 और रोहतक में 14 औद्योगिक इकाइयां पाई गईं। इसके अलावा मानदंडों का खुलेआम उल्लघंन कर प्रदूषण घोलने वाली कुल 80 फैक्ट्रियों में से 25 सोनीपत, 18 गुरुग्राम और 13 पानीपत में हैं। इन सभी के संचालकों को फैक्ट्री बंद करने के नोटिस दिए गए हैं।

घग्गर में प्रदूषण फैलाने वाली 15 फैक्ट्रियां कराईं बंद

इससे पहले अंबाला और पंचकूला में चल रही 15 औद्योगिक इकाइयों को घग्गर नदी में प्रदूषण फैलाने के चलते प्रतिबंधित किया गया था। बोर्ड उन अफसरों पर भी कड़ी कार्रवाई करने की तैयारी में है, जिनके खिलाफ फैक्ट्री मालिकों से मिलीभगत की शिकायतें मिलती रही हैं। सुप्रीम कोर्ट के आदेश पर प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड ने एक समिति बनाई है जो मानकों का उल्लघंन कर रही औद्योगिक इकाइयों से मोटा जुर्माना वसूलेगी।

Advertisement

Tags:

Haryana news State news chandigarh news हरियाणा राज्य प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड HSPCB
Advertisement