पाकिस्तान: मनी लॉन्ड्रिंग मामले में जरदारी, उनकी बहन भगोड़ा घोषित

पाकिस्तान: मनी लॉन्ड्रिंग मामले में जरदारी, उनकी बहन भगोड़ा घोषित
Advertisement

संघीय जांच एजेंसी ने जरदारी और उनकी बहन फरयाल तालपुर सहित 20 संदिग्धों को 35 अरब रुपए धन शोधन के मामले में भगोड़ा घोषित किया है

पाकिस्तान के पूर्व प्रधानमंत्री नवाज शरीफ के बाद अब देश के पूर्व राष्ट्रपति आसिफ अली जरदारी भी भ्रष्टाचार के मामले में घिरते नजर आ रहे हैं. संघीय जांच एजेंसी (एफएआई) ने जरदारी और उनकी बहन सहित 20 संदिग्धों को 35 अरब रुपए धन शोधन (मनी लॉन्ड्रिंग) के मामले में भगोड़ा घोषित किया है.

एक्सप्रेस टिब्यून की रिपोर्ट के अनुसार एफबीआई ने एक मशहूर बैंकर और आसिफ अली जरदारी के करीबी सहयोगी हुसैन लवई और अन्य संदिग्धों के खिलाफ शनिवार को अदालत में चालान पेश किया.

पाकिस्तान पीपुल्स पार्टी (पीपीपी) के सह-अध्यक्ष और उनकी बहन फरयाल तालपुर के अलावा एक निजी बैंक के अध्यक्ष सहित 18 अन्य को चालान में भगोड़ा घोषित किया गया.

Advertisement

जरदारी पर आरोप है कि उन्होंने फर्जी खाते खोलकर इनका उपयोग कथित रूप से रिश्वत और अवैध धन को खपाने के लिए किया था. बता दें कि संघीय जांच एजेंसी ने यह कार्रवाई ऐसे समय में की है, जब पाकिस्तान में 3 दिन बाद यानी 25 जुलाई को आम चुनाव होने हैं.

पाकिस्तान की जवाबदेही अदालत ने हाल ही में नवाज शरीफ, उनकी बेटी मरयम और उनके दामाद को भ्रष्टाचार के मामले में दोषी ठहराते हुए क्रमश: 10 साल, 7 साल और 1 साल की सजा सुनाई है. नवाज शरीफ और मरयम को विदेश से लौटने के बाद पिछले हफ्ते लाहौर हवाईअड्डे से गिरफ्तार कर लिया गया था. दोनों को अभी रावलपिंडी स्थित अडियाला जेल में रखा गया है.

Tags:

GURGAONTODAY KHABARLIVE CORRUPTION MONEY LAUNDRING CASE NAWAS SHARIF PAKISTAN FARYALTALPUR
Advertisement