पाकिस्तान ने हाफिज सईद को माना आतंकवादी

पाकिस्तान ने हाफिज सईद को माना आतंकवादी
Advertisement


लाहौर। 

पाकिस्तान के गृह मंत्रालय ने न्यायिक समीक्षा बोर्ड के समक्ष हाफिज सईद की नजरबंदी को सही ठहराते हुए कहा कि वह आतंकी गतिविधियों में शामिल थे। यह जानकारी रविवार को मीडिया रिपोर्ट से मिली।

मंत्रालय का कहना है कि हाफिज़ सईद और उसके चार साथी जिहाद के नाम पर आतंकवाद फैला रहे हैं। लेकिन ये आरोप उनके उपर पाकिस्तान के भीतर आतंकवाद को लेकर लगाए गए हैं। 

मीडिया रिपोर्ट के अनुसार, सईद शनिवार को न्यायिक समीक्षा बोर्ड के समक्ष पेश हुआ और उसने बताया कि पाकिस्तान सरकार ने कश्मीरियों की आवाज बुलंद करने से रोकने के लिए उसे नजरबंद किया है। गृह मंत्रालय ने उसकी दलीलों को खारिज कर दिया। 


न्यायमूर्ति एजाज अफजल खान (सुप्रीम कोर्ट), न्यायमूर्ति आएशा ए मलिक (लाहौर हाई कोर्ट) और न्यायमर्ति जमाल खान मंदोखल (बलूचिस्तान हाई कोर्ट) की मौजूदगी वाले बोर्ड ने मंत्रालय को निर्देश दिया कि वह सईद और उसके चार साथियों - जफर इकबाल, अब्दुल रहमान आबिद, अब्दुल्ला उबैद और काजी कासिफ नियाज को नजरबंद किए जाने को लेकर 15 मई को होने वाली अगली सुनवाई पर पूरा रिकॉर्ड पेश करे। बोर्ड ने यह भी कहा कि अगली सुनवाई पर पाकिस्तान के महान्यायवादी खुद उपस्थित हों।

पुलिस ने कड़ी सुरक्षा के बीच सईद और उसके चार साथियों को बोर्ड के समक्ष पेश किया था। इस मौके पर सईद के समर्थक अदालत के बाहर जमा थे। सईद के वकील एके डोगर भी मौजूद थे, लेकिन लश्कर-ए-तैयबा के संस्थापक ने अदालत के समक्ष खुद ही अपनी दलील रखने का फैसला किया। 



हाफिज़ सईद 30 जनवरी से नज़रबंद है और 30 अप्रैल को उसकी मियाद 90 दिनों के लिए और बढ़ा दी गई. अपनी इसी नज़रबंदी के खिलाफ हाफ़िज़ सईद ने अर्जी दी है जिसकी सुनवाई चल रही है।

पाकिस्तान के रवैये में बदलाव की वजह अमेरिका की धमकी है। अमेरिका ने कहा था कि पाकिस्तानन हाफिज़ सईद के खिलाफ़ कार्रवाई करे नहीं तो प्रतिबंध को तैयार रहे। इसके बाद ही पाकिस्तान ने हाफ़िज़ सईद पर आतंकवाद निरोधक कानून लगा गया।


विदित हो कि मुबई हमले के मामले में हाफिज अदालत से बरी हो चुका है, क्योंकि पाकिस्तान सरकार ने अदालत से कहा कि उसके खिलाफ पर्याप्त सबूत नहीं हैं।

हिन्दुस्थान समाचार/कृष्ण

Tags:

Pakistan India Hafiz Saeed Terrorist पाकिस्तान हाफिज सईद आतंकी
Advertisement