बहनजी ने तोड़ा राजकुमार सैनी से रिश्ता

बहनजी ने तोड़ा राजकुमार सैनी से रिश्ता
Advertisement

नई दिल्‍ली: लोकसभा चुनाव में हार के बाद बहुजन समाज पार्टी ने उत्तर प्रदेश के बाद हरियाणा में भी अपने गठबंधन साथी दल लोकतंत्र सुरक्षा पार्टी (लोसुपा) से नाता तोड़ लिया है। बसपा ने फरीदाबाद में लोकसभा चुनाव की समीक्षा बैठक में गठबंधन तोड़ने का निर्णय किया। पार्टी ने इस दौरान अपने गठबंधन साथी लोकतंत्र सुरक्षा पार्टी के प्रधान राजकुमार सैनी पर गंभीर आरोप लगाए।

बसपा के प्रदेश प्रभारी डॉ. मेघराज ने राजकुमार सैनी पर भाजपा की मदद के आरोप लगाया। उन्‍होंने कहा कि बसपा हरियाणा में विधानसभा चुनाव अकेले के दम पर लड़ेगी। इस मौके पर प्रदेश अध्यक्ष प्रकाश भारती, लोकसभा जोन के प्रभारी डॉक्टर महेश, फरीदाबाद लोकसभा प्रभारी मनधीर सिंह मान, फरीदाबाद जिला अध्यक्ष रतिराम, पलवल जिला अध्यक्ष कमल गौतम के अलावा सभी नौ विधानसभाओं के अध्यक्ष समेत मुख्य कार्यकर्ता मौजूद रहे।

बसपा प्रदेश प्रभारी ने लोसुपा नेता राजकुमार सैनी पर लगाए भाजपा की मदद के आरोप
राज्य में लोकसभा चुनावों में 10 सीटों से 7 सीटों पर बसपा-लोसपा गठबंधन तीसरे नंबर पर रहा। बसपा के हारे हुए नेताओं ने प्रदेश प्रभारी को बताया कि जहां से गठबंधन में बसपा के उम्मीदवार खड़े थे वहां लोसुपा कार्यकर्ताओं ने प्रचार तक नहीं किया।

हार के लिए सैनी के विवादित बयानों को ठहराया जिम्मेदार 
समीक्षा बैठक करने फरीदाबाद पहुंचे बसपा के प्रदेश प्रभारी डॉ मेघराज ने बहुजन समाज पार्टी के नेताओं द्वारा बार-बार समझाने के बाद भी राजकुमार सैनी विवादित बयान देते रहे। इसकी वजह से पार्टी को हार का मुंह देखना पड़ा। डॉ. मेघराज ने कहा कि राजकुमार सैनी की पार्टी के पास पूरे हरियाणा में कहीं भी कॉडर मतदाता नहीं थे। बसपा सुप्रीमो मायावती की तरफ से केवल लोकसभा चुनावों के लिए राजकुमार सैनी से गठबंधन किया था, लेकिन जिस तरह के चुनाव परिणाम आए हैं, उसके बाद इस गठबंधन को तोड़ा जा रहा है। 

बसपा अकेले लड़ेगी विधानसभा चुनाव 
बसपा के प्रदेश प्रभारी डा. मेघराज ने स्पष्ट किया कि आने वाले हरियाणा के विधानसभा चुनावों में पार्टी 90 विधानसभा सीटों पर एकला चलो की नीति पर चलते हुए अकेले चुनाव लड़ेगी।  विधानसभा चुनावों को लेकर डॉक्टर मेघराज ने साफ संदेश देते हुए कहा कि पार्टी में कर्मठ कार्यकर्ताओं को ही आगे बढ़ने का मौका मिलेगा। लोकसभा चुनावों से पहले हुए बसपा-लोसुपा गठबंधन में हालांकि 55-35 का फार्मूला विधानसभा चुनावों के लिए तय किया गया था। यानि हरियाणा की 90 विधानसभा सीटों में से 55 सीटों पर लोसुपा व 35 सीटों पर बसपा के चुनाव लड़ने के समझौते पर मुहर लगाई गई थी।

Advertisement

हरियाणा में लोकसभा चुनाव से ठीक पहले बहुजन समाज पार्टी ने इंडियन नेशनल लोकदल के साथ गठबंधन तोड़ दिया था। इनलो की पारिवारिक टूट का हवाला देकर बसपा ने यह गठबंधन तोड़ा था। लोकसभा चुनावों में इस गठबंधन के तहत हरियाणा की 10 सीटों में से 8 पर जहां बसपा ने अपने प्रत्याशी उतारे थे वहीं लोसुपा प्रत्याशी ने 2 सीटों पर चुनाव लड़ा। 

Tags:

Haryana news State news चंडीगढ़ हरियाणा Haryana Politics हरियाणा विधानसभा चुनाव 2019 BSP Haryana Rajkumar Saini
Advertisement