ज़हर खाने वाली महिला के मुँह से निकली आग, डॉ देखकर भागी, साइंस हैरान!

ज़हर खाने वाली महिला के मुँह से निकली आग, डॉ देखकर भागी, साइंस हैरान!
Advertisement

अलीगढ़।  मेडिकल साइंस में शायद ही इससे पहले कभी ऐसा हुआ हो कि किसी मरीज के मुंह से आग के साथ लपटें निकली हों। अलीगढ़ मुस्लिम यूनिवर्सिटी के जेएन मेडिकल कॉलेज में बुधवार को ऐसा हुआ कि डॉक्टर भी हैरान हैैं। जहर खाने वाली एक महिला का मेडिकल कॉलेज के ट्रॉमा सेंटर में इलाज चल रहा था। डॉक्टरों ने जहर निकालने के लिए नाक के जरिये राइड्स ट्यूब डाला। जैसे ही सिङ्क्षरज से जहर को खींचा गया, अचानक मुंह से आग की लपटें और धुएं का गुबार उठा। कुछ देर बाद महिला ने दम तोड़ दिया। यह दृश्य डॉक्टरों सहित जिसने भी देखा एक बार तो घबरा गया। मेडिकल साइंस में ऐसा अब तक का इकलौता केस बताया जा रहा है। पूरा घटनाक्रम सीसीटीवी कैमरे में कैद हुआ है। पोस्टमार्टम रिपोर्ट में आग लगने का कारण फॉस्जीन गैस को बताया गया है।

जलाली की थी महिला

मरने वाली महिला हरदुआगंज थाना क्षेत्र के कस्बा जलाली के मुहल्ला नसीर की रहने वाले चुकेंद्र सिंह उर्फ प्रेमराज की पत्नी शीला देवी (40) थी। मायका पुरदिलनगर (हाथरस) में है। शीला बुधवार सुबह अपनी ननद विमलेश पत्नी सतवीर के घर जवां क्षेत्र के गांव आलमपुर सुबकरा गई थी। ननद के घर के रास्ते में वह बेहोश होकर गिर पड़ी। लोगों से बातचीत में उसने इतना ही कहा कि उसे ननदोई से मिलवा दो। महिला की हालत देखकर गांव वालों ने करीब नौ बजे 100 नंबर पर फोन किया। पुलिस उसे करीब 11 बजे मेडिकल कॉलेज लेकर पहुंची।

Advertisement

सिरिंज खींचते ही निकली आग

वहां जहर खाने का इलाज शुरू हुआ। जूनियर डॉ. फिरदौस ने जहरीले पदार्थ को निकालने के लिए नाक में ट्यूब डाली। ट्यूब में सिरिंज लगाकर जहर खींचना शुरू किया, तो महिला के मुंह से आग के साथ तेज धुआं निकला।  आग देखकर डॉ. फिरदौस सामान फेंककर भाग निकलीं। डॉक्टरों में भी खलबली मच गई।

Tags:

Medical Science मेडिकल साइंस अलीगढ़ मुस्लिम यूनिवर्सिटी Aligarh Muslim University
Advertisement