नियोजित शिक्षकों के समान काम समान वेतन की मांग को लेकर सुप्रीम कोर्ट में सुनवाई

नियोजित शिक्षकों के समान काम समान वेतन की मांग को लेकर सुप्रीम कोर्ट में सुनवाई
Advertisement

नियोजित शिक्षकों के 'समान काम समान वेतन' मामले में सुप्रीम कोर्ट में आज फिर होगी सुनवाई

बिहार के 3 लाख 56 हजार नियोजित शिक्षकों को सुप्रीम कोर्ट के फैसले का इंतजार है

 

पटना/दिल्ली. बिहार के नियोजित शिक्षकों के समान काम समान वेतन की मांग को लेकर सुप्रीम कोर्ट में आज(मंगलवार) फिर सुनवाई होगी। 3 लाख 56 हजार नियोजित शिक्षकों को सुप्रीम कोर्ट के फैसले का इंतजार है। राज्य और केंद्र सरकार इस मामले में अपना पक्ष रख चुके हैं। शिक्षक संगठनों के वकील अपना पक्ष रख रहे हैं।

Advertisement

शिक्षा और समाज के हित में फैसला देंगे: सु्प्रीम कोर्ट
गुरुवार को हुई पिछली सुनवाई में शिक्षक संघ के वकील ने कहा था कि सरकार वोट बैंक के लिए राशि खर्च कर रही है और 3.56 लाख नियोजित शिक्षकों समान वेतन देने से हाथ खड़े कर रही है। शिक्षा मद की राशि हर साल लगभग 8 हजार करोड़ सरेंडर करती है। पंचायतों और अन्य नियोजन इकाइयों से नियोजन करा वेतन देने से लेकर अन्य आदेश और कार्य तो राज्य सरकार ही करा रही, तो फिर राज्य कर्मी की तरह इन्हें सारी सुविधा और समान वेतन क्यों नहीं दिया जा रहा है। कोर्ट ने पूछा - आरटीई और एनसीटीई के मानक को पूरा करने वाले शिक्षकों को आरटीई एक्ट लागू होने के बाद नियोजन कैसे हुआ? न्यायाधीश एएम सप्रे और यूयू ललित की कोर्ट में मामले की सुनवाई चल रही है। कोर्ट ने कहा था कि ऐसा फैसला दिया जाएगा, जो शिक्षा और समाज के व्यापक हित में होगा।

Tags:

Localnewsofindia
Advertisement