6 बहनों के एकमात्र भाई: 3 फीट ऊंचाई और 14 KG वजन वाले 17 वर्षीय गणेश बनेंगे डाॅक्टर

Advertisement

सुप्रीम कोर्ट के फैसले के बाद खुली राह

NEET में 223 का स्कोर था

जयवंत भट्ट. भावनगर: दुनिया में शायद ही ऐसा उदाहरण मिलेगा, जिसमें 3 फीट ऊंचाई और 14 KG वजन वाले 17 वर्षीय गणेश को लोग अब एक डॉक्टर के रूप में देखेंगे। गणेश का यह सपना सुप्रीमकोर्ट के एक फैसले के बाद पूरा हुआ।

Advertisement

 

 

एडमिशन कमेटी ने लगाई थी रोक: गोरखी गांव के गणेश को डॉक्टर बनना था, इसलिए उसने NEET की परीक्षा दी। इसमें उसने 223 का स्कोर प्राप्त किया। किंतु मेडिकल की एडमिशन कमेटी ने उसके प्रवेश पर रोक लगा दी, इससे उसका सपना चूर-चूर हो गया। इसके खिलाफ गणेश ने सुप्रीमकोर्ट का दरवाजा खटखटाया। सुप्रीमकोर्ट ने एडमिशन कमेटी के बेवुनियाद तर्क को खारिज करते हुए गणेश के पक्ष में फैसला सुनाया।

Advertisement

 

 

6 बहनों का एक भाई: गरीब परिवार में पले-बढ़े गणेश 6 बहनों के एकमात्र भाई हैं। जन्म के कुछ साल बाद उनका शारीरिक विकास रूक गया। 17 साल की उम्र तक उनकी ऊंचाई केवल 3 फीट ही है। वजन भी काफी कम यानी 14.5 किलो। उनका सपना था कि किसी भी हालत में उन्हें डॉक्टर ही बनना है। डॉक्टर बनकर अपने जैसे लोगों का इलाज करना उनका ध्येय था। इसलिए उसने NEET की परीक्षा में बेहतर प्रदर्शन किया। किंतु एडमिशन कमेटी ने उसे मेडिकल कॉलेज में एडमिशन ही नहीं दिया।

 

 

एडमिशन कमेटी का तर्क: गणेश की हाइट और वजन बहुत ही कम है। उसे 72% विकलांग माना गया। ऐसे में इमरजेंसी मेंं उसकी सेवाएं नहीं ली जा सकती। इसलिए गणेश को अयोग्य ठहराया गया।

माता-पिता खेतों में करते हैं मजदूरी: गणेश के माता-पिता खेतों में मजदूरी करते हैं, इसलिए आर्थिक रूप से यह परिवार पूरी तरह से विपन्न है। ऐसे में लोगों की मदद से गणेश ने हाईकोर्ट का दरवाज़ा खटखटाया। यहां भी दुर्भाग्य ने उसका पीछा नहीं छोड़ा, हाईकोर्ट ने उसके खिलाफ फैसला सुनाया। इस पर गणेश बुरी तरह से टूट गया।

 

 

अगला पड़ाव सुप्रीम कोर्ट था: बुरी तरह से हार चुके गणेश के पास सुप्रीम कोर्ट के अलावा और कोई विकल्प नहीं था। सुप्रीम कोर्ट के वकील की फीस से हर कोई वाकिफ था। पर गणेश को इस काम के लिए अपनों की सहायता मिली और उसने अपनी तरह दो और साथियों के साथ सुप्रीम कोर्ट में याचिका दायर की। इस बार फैसला उनके हक में था। सुप्रीम कोर्ट ने हाईकोर्ट के फैसले को खारिज करते हुए कहा कि किसी भी स्टूडेंट्स की ऊंचाई कम हो और वजन काफी कम हो, तो भी उसे अपना कैरियर बनाने से कोई रोक नहीं सकता।

Tags:

Gujarat 17 year old boy have 14 kilogram wieght and 3 feet hight in bhavnagar
Advertisement