लालू यादव का कोर्ट में सरेंडर: डॉक्टर तय करेंगे कि लालू का इलाज जेल में होगा या रिम्स में

लालू यादव का कोर्ट में सरेंडर: डॉक्टर तय करेंगे कि लालू का इलाज जेल में होगा या रिम्स में
Advertisement

लालू यादव का कोर्ट में सरेंडर: पहले जेल जाना होगा, डॉक्टर तय करेंगे कि इलाज जेल में होगा या रिम्स में

रांची पहुंचने के बाद लालू यादव से मिले बाबूलाल मरांडी, हेमंत सोरेन और सुबोधकांत सहाय जैसे नेता

 

- लालू चार मामलों में सजा काट रहे
- डोरंडा और भागलपुर ट्रेजरी केस में फैसला आना बाकी

Advertisement


रांची.  चारा घोटाला में सजायाफ्ता बिहार के पूर्व मुख्यमंत्री और राजद सुप्रीमो लालू प्रसाद यादव ने गुरुवार को सीबीआई की कोर्ट में सरेंडर कर दिया। उन्हें अभी बिरसा मुंडा जेल भेजा जाएगा। इसके बाद जेल के डॉक्टर तय करेंगे कि लालू का इलाज जेल के अस्पताल में होगा या उन्हें रिम्स में भर्ती कराने की जरूरत है। लालू यादव के वकील प्रभात कुमार ने बताया कि मुंबई के एशियन हार्ट इंस्टिट्यूट के डॉक्टर लालू का चेकअप करेंगे, उसके बाद कोर्ट को उनके स्वास्थ्य की स्थिति के बारे में बताएंगे।

झारखंड हाईकोर्ट ने पैरोल अवधि तीन माह बढ़ाने की लालू की अपील को 25 अगस्त को खारिज कर दिया था। उन्हें 30 अगस्त तक सरेंडर करने का आदेश दिया गया था। लालू बुधवार शाम पटना से रांची पहुंचे। जेल में लालू के लिए उच्च श्रेणी के कमरे की व्यवस्था की गई है। जेल अस्पताल में भी एक बेड तैयार किया गया है। खाना बनाने और कपड़े धोने के लिए जेल में लालू को एक-एक कारिंदे मिलेंगे। ये कारिंदे कैदी ही होंगे। 
26 अगस्त को मुंबई से पहुंचे थे पटना : इससे पहले 26 अगस्त को लालू प्रसाद को मुंबई एशियन हार्ट इंस्टीट्यूट से डिस्चार्ज कर दिया गया था। वे पटना लौट गए थे। लालू के वकील अभिषेक मनु सिंघवी ने झारखंड हाईकोर्ट को बताया था कि पिछले महीने मुंबई में लालू का फिस्टुला का ऑपरेशन हुआ है। अभी भी घाव हैं। उन्हें बीपी, शुगर, किडनी की भी समस्या है। इस पर जस्टिस अपरेश कुमार सिंह ने कहा था कि वे रिम्स आएं और यहीं इलाज कराएं। लालू को इलाज के लिए कोर्ट ने 11 मई को छह हफ्ते की जमानत मंजूर की थी। इसे बाद में 14 अगस्त और फिर 27 अगस्त तक बढ़ा दिया गया था। 

दिसम्बर 2017 में दोषी करार दिए गए थे लालू :  चारा घोटाला के देवघर ट्रेजरी केस में 23 दिसम्बर 2017 को दोषी करार दिए जाने के बाद से लालू रांची जेल में थे। इस केस में इसी साल 6 जनवरी को लालू समेत 16 दोषियों को साढ़े तीन साल की सजा सुनाई गई। उन पर 10 लाख रुपए का जुर्माना भी लगाया गया। तबीयत बिगड़ने पर लालू यादव को 17 मार्च को रिम्स में भर्ती किया गया। सुधार नहीं होने पर 28 मार्च को एम्स रेफर कर दिया गया था। एम्स से उन्हें 30 अप्रैल को डिस्चार्ज कर रिम्स भेज दिया गया। 

Advertisement

 

चारा घोटाले के 6 मामलों में से 4 में हुई लालू को सजा
- ईबासा ट्रेजरी का पहला केस
: 30 सितंबर 2013 को कोर्ट ने लालू यादव को दोषी माना। पांच साल की सजा हुई। 25 लाख रुपए का जुर्माना भी उन पर लगाया गया था। इस मामले में लालू को जमानत मिल चुकी है।
- देवघर ट्रेजरी केस: 23 दिसम्बर 2017 को दोषी करार। 6 जनवरी 2018 को लालू समेत 16 आरोपियों को साढ़े तीन साल जेल की सजा सुनाई गई। लालू पर 10 लाख रुपए का जुर्माना भी लगाया गया।
- चाईबासा ट्रेजरी का दूसरा केस: 24 जनवरी 2018 को लालू दोषी करार। इसी दिन उन्हें पांच साल की सजा सुनाई गई। दस लाख रुपए जुर्माना लगा।
- दुमका ट्रेजरी केस: मार्च 2018 में लालू को दोषी माना गया। पूर्व मुख्यमंत्री जगन्नाथ मिश्र बरी हुए। 24 मार्च को लालू को 7-7 साल की सजा सुनाई गई। दोनों सजाएं अलग-अलग चलेंगी। यानी कुल 14 साल। लालू पर 60 लाख रुपए का जुर्माना भी लगाया गया। तीनों मामलों में लालू सजा काट रहे हैं।

 

इन 2 केस में चल रही सुनवाई : डोरंडा ट्रेजरी केस की सुनवाई भी रांची में चल रही है। भागलपुर ट्रेजरी केस की सुनवाई पटना की सीबीआई कोर्ट में चल रही है।

Tags:

Localnewsofindia
Advertisement