फरीदाबाद: परेशान चल रहे चार भाई-बहनों ने फांसी लगाकर की सुसाइड

फरीदाबाद: परेशान चल रहे चार भाई-बहनों ने फांसी लगाकर की सुसाइड
Advertisement

सुसाइड नोट में किसी को नहीं ठहराया मौत का जिम्मेदार

मां की मौत के बाद से परेशान चल रहे थे चारों भाई-बहन

कई दिनों से घर से बाहर ही नहीं निकला था परिवार का कोई सदस्य

Advertisement

फरीदाबाद (हरियाणा). यहां के सूरजकुंड में चार भाई-बहनों ने फांसी लगाकर सुसाइड कर लिया। उनके फ्लैट से जब बदबू आई तो पड़ोसियों ने इसकी सूचना पुलिस को दी। पुलिस ने मौके पर पहुंचकर दरवाजा खोला तो अंदर चारों के शव फंदे से लटके हुए थे। तीन-चार दिन से लटके होने की वजह से शव बुरी हालत में थे। उनके पास से एक सुसाइड नोट भी मिला है, जिसके मुताबिक भाई-बहनों ने माता-पिता और छोटे भाई की मौत और आर्थिक तंगी की वजह से यह कदम उठाया। पुलिस ने शवों को पोस्टमॉर्टम के लिए भेज दिया है।

 

चौकी इन्चार्ज रणधीर यादव का कहना है कि रामबाग इलाके की अग्रवाल सोसाइटी में एक ईसाई परिवार के चार भाई-बहन रहते थे, जिनके नाम प्रदीप, मीना, बीना और जया थे। उनके माता-पिता और छोटे भाई की मौत हो चुकी थी। पड़ोसियों का कहना है कि पिछले कुछ दिनों से उनके घर में कोई आवाजाही नहीं थी।

Advertisement

 

गैलरी में मिली दो लाशें : पुलिस और फोरेंसिक टीम मौके पर पहुंची तो घर चारों तरफ से बंद था। दरवाजे का ताला तोड़कर अंदर देखा तो गैलरी में दो बहनों ने फंदा लगा रखा था। उनके भाई प्रदीप और एक बहन की लाशें दो अलग-अलग कमरों में मिलीं।

 

मां की मौत के बाद से थे परेशान : गैलरी से सुसाइड नोट बरामद किया गया। इसके मुताबिक, "हम चारों भाई बहन मीना, बीना, जया और प्रदीप सोच-समझकर अपनी जान देने का फैसला कर रहे हैं, क्योंकि हम अपने मम्मी-पापा और छोटे भाई संजू के बिना जीवन की कल्पना भी नहीं कर सकते। घर का सामान बेचकर हमारा अंतिम संस्कार किया जाए और बचे पैसे पीआरजी हेल्थ सिटी के आरिफ को दिए जाएं, जिन्होंने हमारी मदद की थी। फादर रवि कोटा आप संजू के कुछ सामान को चैरिटी करवा दें। इनवर्टर चर्च में रखवा दिया जाए। बुरे समय में संजू के मित्रों, जोशी अंकल-आंटी, सिस्टर, फादर, सुमन और फादर रवि कोटा और होटल राजहंस ने हमारी मदद की थी। उन सब का हृदय से धन्यवाद। हमारी आखिरी इच्छा है कि हमारा अंतिम संस्कार बुराड़ी कब्रिस्तान में ही किया जाए। पूछताछ के नाम पर किसी को परेशान न किया जाए।"

 

अब तक सामने नहीं आया कोई रिश्तेदार: चौकी इन्चार्ज रणधीर का कहना है कि अभी तक कोई रिश्तेदार सामने नहीं आया है। पुलिस मामले में कार्रवाई कर रही है। मृतकों के पिता की पहले मौत हो चुकी थी और मां की कुछ दिन पहले मौत हुई थी। छोटे भाई संजू की भी मौत हो गई थी। शायद परिवार इस वजह से परेशान था। 

Tags:

#Faridabad Suicide by four family members not disclose reason in suicidenote
Advertisement