स्विस बैंकों में भारतीयों के काले धन में 30 साल में सबसे बड़ी गिरावट, पर अब भी 4,500 करोड़ जमा

स्विस बैंकों  में भारतीयों के काले धन में 30 साल में सबसे बड़ी गिरावट, पर अब भी 4,500 करोड़ जमा
Advertisement

नई दिल्ली. स्विस बैंकों में जमा भारतीयों की रकम 2016 में घटकर रिकॉर्ड 676 मिलियन स्विस फ्रैंक यानी 4,500 करोड़ रुपए तक रह गई है। इस दौरान भारतीयों के डिपॉजिट में 45% तक की गिरावट दर्ज की गई, जो 30 साल में सबसे कम है।

बता दें कि स्विट्जरलैंड सरकार ने अपने बैंकों में भारतीयों के डिपॉजिट की जानकारी साझा करने को मंजूरी दे दी है। ऑटोमैटिक इन्फॉर्मेशन शेयरिंग के तहत 2019 से भारत और दूसरे देशों को ये डाटा मिलने लगेगा। हालांकि, स्विस बैंकों ने कहा कि इसके लिए डाटा की सीक्रेसी और सिक्युरिटी को पुख्ता रखना होगा।

67 करोड़ स्विस फ्रैंक में किस तरह के डिपॉजिट...

Advertisement

 स्विस बैंकों में 2016 के दौरान भारतीयों की रकम 676 मिलियन यानी 67 करोड़ स्विस फ्रैंक रह गई। स्विस नेशनल बैंक अथॉरिटी ने गुरुवार को लेटेस्ट डाटा पब्लिश किया। इसके मुताबिक, जिम्मेदार ऑर्गनाइजेशन्स की तरफ से जमा की गई रकम 11 मिलियन यूएस डॉलर यानी 71.28 करोड़ रही।

कितनी गिरावट?

- बैंकों में जमा भारतीयों की रकम में 2016 में 45% की गिरावट देखने को मिली है। ये अब तक की सबसे बड़ी सालाना गिरावट बताई जा रही है। 1987 से अल्पाइन नेशन ने ऐसे डाटा पब्लिश करने शुरू किए थे। तब से अब तक भारतीयों की ये स्विस बैंकों में जमा सबसे कम रकम है। इस रकम में लगातार तीसरे साल गिरावट दर्ज की गई है। डाटा के मुताबिक, इससे पहले 1995 में भारतीयों की रकम सबसे कम थी, जो 723 मिलियन स्विस फ्रैंक यानी 4594 करोड़ रुपए थी।

Advertisement

कब से आ रही ऐसी गिरावट?

- यहां जिम्मेदार ऑर्गनाइजेशन्स या वेल्थ मैनेजर्स के जरिए 2007 तक जमा की गई रकम अरबों में थी। लेकिन, रेग्युलेटरी क्रैकडाउन के डर के चलते लगातार इसमें गिरावट आती गई। 2011 और 2013 को छोड़ कर इसमें गिरावट दर्ज की गई, तब भारतीयों की रकम में 12% और 42% का इजाफा हुआ था।

स्विस बैंकों में भारतीयों का सबसे ज्यादा पैसा कब रहा?

- स्विस बैंकों में किस देश के लोगों का कितना पैसा जमा है, इसके आंकड़े 1987 से मेंटेन किए जा रहे हैं। वहां के बैंकों में भारतीयों का सबसे ज्यादा पैसा 2006 में जमा हुआ था, जब स्विस बैंकों में भारतीयों के 6.5 अरब स्विस फ्रैंक यानी 23 हजार करोड़ रुपए थे।

साल-दर-साल कैसे घट रहा है स्विस बैंकों में भारतीयों का पैसा?

2014 के अांकड़े जो जून 2015 में आए: 181 करोड़ स्विस फ्रैंक यानी 11500 करोड़ रुपए

2015 के आंकड़े जो जून 2016 में आए:121 करोड़ स्विस फ्रैंक यानी 8392 करोड़ रुपए

2016 के आंकड़े जो जून 2017 में आए: 67 करोड़ स्विस फ्रैंक यानी 4500 करोड़ रुपए

किन कारणों से आई गिरावट?

1) स्विट्जरलैंड ने भारत और कुछ दूसरे देशों के साथ क्लाइंट डिटेल्स शेयरिंग शुरू की है। इसके अलावा अगले साल से ऑटोमैटिक इन्फॉर्मेशन एक्सचेंज भी शुरू हो जाएगा। हालांकि, इसके लिए संबंधित देशों को क्लाइंट के बारे में सबूत देने होंगे कि उसके गलत कामों में शामिल होने का शक है। 

2) माना जाता है कि जैसे ही ब्लैकमनी के खिलाफ ग्लोबल एक्शन शुरू हुआ, स्विस बैंकों में ब्लैकमनी रखने वाले इंडियन अकाउंट होल्डर्स ने पैसा दूसरी जगहों पर शिफ्ट करना शुरू कर दिया। 

3) स्विस बैंक कह चुके हैं कि उनके यहां भारतीयों

Tags:

National news international news स्विस बैंक black money indian rupees in swiss bank
Advertisement