जवानों ने रेलवे के खाने में बदबू आने पर फेंके 1040 पैकेट

जवानों ने रेलवे के खाने में बदबू आने पर फेंके 1040 पैकेट
Advertisement

इलेक्शन ड्यूटी में सीपीआरएफ के 2000 जवान झारखंड से जा रहे थे भिलाई

अाईआरसीटीसी ने रायगढ़ स्टेशन में दिया था जवानों के लिए खाने का ऑर्डर

 

Advertisement

रायगढ़. सीआरपीएफ के दो हजार जवानों ने बदबू आने पर शुक्रवार को रायगढ़ रेलवे स्टेशन के ट्रैक पर सारा खाना फेंक दिया। जवानों ने स्टेशन पर ही चाय पीकर ही खाली पेट ही आगे का सफर तय किया। सीआरपीएफ के 2 हजार जवान झारखंड से छत्तीसगढ़ के भिलाई में चुनाव ड्यूटी पर आ रहे थे। रास्ते में रायगढ़ स्टेशन में उनके लिए आईआरसीटीसी ने 1040 जवानों के खाने की थाली का आर्डर दिया था जो खराब निकला।

 

बांसी खाने को दोबारा गर्म कर दिया गया जवानों को

Advertisement

भोजनालय संचालक ने जवानों के खाने की व्यवस्था की, मगर बासी खाने को ही दोबारा गर्म करके। इससे खाना कुछ ही घंंटों में खराब हो गया। जवानों की ट्रेन सुबह 10 बजे के आने वाली थी, मगर आई दोपहर 1 बजे के बाद। जवानों के कोच में जब खाना पहुंचाया गया तो उन्होंनें थाली उठाकर सीधे ट्रैक और डस्टबिन में डालना शुरू कर दिया। खाने की शिकायत के बाद भोजनालय संचालक ने फिर से दूसरे खाने की व्यवस्था करने की बात कही है, मगर जवानों ने खाना खाए बगैर ही चाय पीकर अपना सफर तय किया।

 

दो घंटे तक खड़ी रही ट्रेन

ट्रेन लगभग 1 बजे से आकर रेलवे स्टेशन पर खड़ी थी। आधे जवान इसलिए भी नाराज हो रहे थे, क्योंकि ट्रेन को सिग्नल नहीं मिलने के नाम पर दो घंटे जबरन प्लेटफार्म पर खड़ा कर रखा गया। इसके बाद खाना भी बासी मिलने पर उनका मूड पूरी तरह से खराब हो गया। इसके बाद यात्री प्लेटफार्म में उतरकर खाने की दूसरी चीजों के लिए भटकने लगे थे। ट्रेन लगभग 3.30 बजे प्लेटफार्म से रवाना हुई।

 

विवादों में फंसने की आदत

भोजनालय हमेशा ही विवादों में आता रहता है। कभी अधिकारियों को 35 की थाली 100 रुपए में बेचने के लिए तो कभी ट्रेनों में अवैध फेरी के लिए। इसके अलावा खाने की गुणवत्ता की शिकायत भी हमेशा रहती है। यहां कोई शिकायत पुस्तिका भी मौजूद नहीं है। इसलिए कोई गलती नजर आने पर कोई यात्री शिकायत भी नहीं कर पाता।

 

सिर्फ दाल खराब हुई, पर जवानों ने सारा खाना क्यों फेंका : संचालक

भोजनालय का वर्तमान में संचालन कर रहे विष्णु ने बताया कि ट्रेन अपने निर्धारित समय की बजाए चार घंटे विलंब से रायगढ़ पहुंची। इसलिए दाल खराब हो गई। जबकि जवानों ने खाने की थाली में मिठाई को छोड़कर बाकी सभी चीजों को खराब बताते हुए फेंका था। आधे खाने को जवानों ने डस्टबिन में डाला तो कुछ को ट्रैक पर ही गुस्से में फेंक गए।

 

खाने को ट्रैक पर फेंका था, हंगामे जैसी बात नहीं है

खाना खराब होने की बात को लेकर जवानों ने खाने को ट्रैक पर फेंका था। हंगामे जैसी कोई बात नहीं हुई है।

पी के राउत, स्टेशन मास्टर, रायगढ़ रेलवे स्टेशन 

Tags:

Chhattisgarh Election: foul odor in railway food then soldiers thrown out
Advertisement