भूपेश के RSS वाले बयान पर भाजपा का जवाबी हमला

भूपेश के RSS वाले बयान पर भाजपा का जवाबी हमला
Advertisement

भूपेश के RSS वाले बयान पर भाजपा का जवाबी हमला

कांग्रेस तय करे परिवारवाद या राष्ट्रवाद है उसकी नीति: कौशिक

रायपुर: भाजपा प्रदेशाध्यक्ष धरमलाल कौशिक ने कांग्रेस प्रदेशाध्यक्ष भूपेश बघेल द्वारा राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ को लिखे पत्र को राग दरबारी शैली निरूपित करते हुए कहा कि यह राहुल गांधी को प्रसन्न करने वाला खुशामदी राग है।

 

Advertisement

उन्होंने कहा कि एक परिवार की चाटूकारिता में लगकर ही अपना जीवन धन्य मानते रहने वाले लोग कभी संघ को नहीं समझ सकते। न ही संघ को ऐसे किसी तत्वों के प्रमाण पत्र की जरूरत है। इतिहास में इसके उदाहरण मौजूद हैं कि कांग्रेस के तात्कालीन राष्ट्रीय अध्यक्ष देवकांत बरूआ ने बयान दिया था कि इंदिरा इज इंडिया और इंडिया इज इंदिरा। भूपेश इसी मानसिकता की पुनरावृत्ति करते हुए राहुल गांधी की खुशामद करने के चक्कर में संघ की अनर्गल आलोचना कर रहे हैं। 

 

श्री कौशिक ने कहा कि प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष अगर थोड़ी भी देश-दुनिया की समझ रखते तो इस तरह संघ के बारे में बात नहीं  कहते। उन्होंने कहा कि आसेतु हिमाचल भारत को एक सांस्कृतिक सूत्र में पिरोने का काम लगातार संघ करते आ रहा है। देश के समक्ष उपस्थित हर संकट के समय अपने प्राणों की बाजी लगाकर स्वयं सेवक कार्य करते हैं। हालिया केरल आपदा भी इसका बेहतरीन उदाहरण है। ऐसे संस्था को लांछित करना बौद्धिक दिवालियापन ही कहा जा सकता है। 

Advertisement

 

स्वयं महात्मा गांधी, संघ के शिविर में जाकर उसकी तारीफ कर चुके हैं। प्रथम प्रधानमंत्री नेहरू ने तो संघ को गणतंत्र दिवस परेड में शामिल होने का आमंत्रण दिया था जिसमें हजारों की तादाद में संघ के स्वयंसेवक पूर्ण गणवेश में उपस्थित थे। स्वयं सरदार पटेल ने संघ की भूमिका को पूरी तरह निर्दोष मानते हुए उसे प्रतिबंध से मुक्त किया था। ऐसे महान संगठन पर कीचड़ उछाल कर श्री बघेल क्या संदेश देना चाहते हैं, यह समझ से परे है। यही नहीं कांग्रेस के राष्ट्रीय अध्यक्ष राहुल गांधी द्वारा संघ की तुलना मुस्लिम ब्रदरहुड से किये जाने पर कौशिक ने कहा कि यह राहुल गांधी की नासमझी की पराकाष्ठा है। वे समय की कसौटी पर खरे उतरे राष्ट्रभक्त संगठन की तुलना ऐसे आतंकवादी संगठन से कर रहे हैं जिस पर स्वयं मुस्लिम देशों यथा सउदी अरब, मिस्र, संयुक्त अरब अमिरात, सहित अमेरिका और रूस आदि ने प्रतिबंध लगाया हुआ है। 

 

इससे बड़ी विडम्बना और क्या हो सकती है कि धर्म के आधार पर देश के टुकड़े करना स्वीकार करने वाली पार्टी के अध्यक्ष द्वारा संघ पर द्विराष्ट्रवाद का सिद्धांत अपनाने का आरोप लगाया जाय। 

 

श्री कौशिक ने कहा कि बघेल को और नहीं तो अपने सेवादल के उस कार्यकर्ता से ही सीख लेनी चाहिए जिन्होंने कल ही संघ के अनुशासन की जमाकर तारीफ की थी। श्री कौशिक ने कहा कि भाजपा संघ के दैव: दुर्लभ स्वयंसेवकों से प्रेरणा लेती रही है, और इस पर हमेशा भाजपा को गर्व है। कौशिक ने कहा कि जनता विभिन्न चुनावों के परिणामों के माध्यम से कांग्रेस को देश की राजनीति में अप्रासंगिक करती जा रही है जिसकी बौखलाहट में उनके राष्ट्रीय अध्यक्ष से लेकर भूपेश बघेल तक अनर्गल और अमर्यादित टिप्पणियां कर रहे हैं।

Tags:

Localnewsofindia
Advertisement