बाल दिवस पर दिल्ली-एनसीआर के 12 सौ नेत्रहीन बच्चों को स्पेशल स्क्रीनिंग  के माध्यम से सुनाई जाएगी फिल्म

बाल दिवस पर दिल्ली-एनसीआर के 12 सौ नेत्रहीन बच्चों को स्पेशल स्क्रीनिंग  के माध्यम से सुनाई जाएगी फिल्म
Advertisement

गुरुग्राम
गोल्फ कोर्स रोड स्थित ग्लोबल फोयर मॉल में 'सोल बीट्स' कार्यक्रम रविवार शाम को
आयोजित किया गया। सेंट एन सिनर्स में आयोजित इस कार्यक्रम के माध्यम से शहर के कई
निजी स्कूलों ने अपनी परफोर्मेंस दी। जिसमें दृष्टिबाधित सिंगर अंकुर गुप्ता ने अपनी प्रस्तुती
दी, जोकि  सोनू निगम, जावेद अख्तर के साथ भी परफोर्म कर चुके हैं। वहीं सुबीर मलिक के
सूर्यवंश बैंड के साथ और प्रोग्राम बैंड भी अपना संगीत का जादू दिखाते हुए नजर आए।
सेंट एन सिनर्स के संस्थापक विशाल आंनद ने बताया कि गरीब और नेत्रहीन बच्चों के लिए यह
एक बहुत अच्छी पहल है। इससे स्पेशल बच्चे भी खुद को मुख्यधारा का हिस्सा समझेंगे।
 यह कार्यक्रम शानदार रहा, लोगों ने इसे काफी पसंद भी किया। यह देखकर काफी खुशी
होती है कि कई लोग स्पेशल बच्चों के लिए कार्य कर रहे है। इस कार्यक्रम में श्रोताओं को
मंत्रमुग्ध कर दिया और लोगों ने इस प्रस्तुति पर तालियां बजाकर हौसला अफजाई भी की।
इस कार्यक्रम में श्री राम स्कूल मालसरी, पाथवेज स्कूल, हेरिटेज स्कूलों की ओर से म्यूजिकल
बैंड को लोगों ने काफी पसंद किया। प्योर हार्ट और सेंट एन सिनर्स की ओर से यह कार्यक्रम
आयोजित किया गया। जिसमें बच्चों का उत्साह देखते बना। दरअसल, बाल दिवस पर
करीब 12 सौ नेत्रहिन बच्चों को फिल्म दिखाई जाएगी। जिसमें मुन्नाभाई एमबीबीएस
और एमएस धोनी फिल्म की डबिंग करवाई गई है। यह फिल्म नेत्रहिन बच्चों के लिए स्पेशल 
तैयार करवाई गई है। ऐसे में बच्चों को फिल्म दिखाने के लिए 'सोल
बीट्स' कार्यक्रम का आयोजन किया जा रहा  है, जिसके माध्यम से फिल्म दिखाने के
लिए फंड जमा किया जा रहा है। यह फिल्म 14 नवंबर को रहेजा मॉल स्थित कार्निवल
सिनेमा में दिखाई जाएगी। जोकि पूरे सप्ताह छात्रों को दिखाई जानी है। जिसमें एनसीआर के
विभिन्न एनजीओ के छात्रों को आमंत्रित किया गया है। इन नेत्रहिन बच्चों के लिए यह अलग
ही अनुभव होगा। प्योर हार्ट्स से नविता शर्मा ने बताया कि मूवी को तैयार करने के लिए
अलग से वाइज ओवर और साउंड इफेक्ट्स भी दिया गया है। प्योर हार्ट्स की ओर से पहले भी
गरीब और एनजीओ में पढ़ रहे जरुरतमंद बच्चों को फिल्म दिखाई गई थी। जिसमें शहर के
2600 के करीब बच्चों को फिल्म दिखाई गई थी। ऐसे में अब नेत्रहीन बच्चों के लिए स्पेशल

फिल्म तैयार करवाई गई है। जिसके माध्यम से नेत्रहीन बच्चों की दुनिया को इन प्रभावशाली
फिल्मों के माध्यम से एक नई कल्पना मिल सके।

Tags:

GurgaonNews
Advertisement