आयुष्मान भारत योजना में दूसरी बार इलाज कराया तो आधार होगा जरूरी

आयुष्मान भारत योजना में दूसरी बार इलाज कराया तो आधार होगा जरूरी
Advertisement

योजना में दूसरी बार इलाज कराया तो आधार होगा जरूरी

आयुष्मान भारत में पहली बार इलाज कराने पर आधार की जगह वोटर आईडी या प्रमाणित पहचान पत्र दिया जा सकता है

नई दिल्ली. आयुष्मान भारत के अंतर्गत पहली बार इलाज कराने पर आधार भले ही अनिवार्य न हो, लेकिन दूसरी बार इस योजना का लाभ लेने के लिए आधार देना होगा। आधार के लिए आवेदन कर चुके हैं, लेकिन नंबर नहीं आया तो प्रमाण के तौर पर इससे संबंधित दस्तावेज पेश करने होंगे।

Advertisement

 

सुप्रीम कोर्ट के आदेश के बाद लिया गया फैसला

नेशनल हेल्थ एजेंसी के सीईओ इंदु भूषण के मुताबिक, यह फैसला सुप्रीम कोर्ट के उस आदेश के बाद लिया गया है, जिसमें आधार योजना को संवैधानिक माना गया है। उन्होंने बताया, हम सुप्रीम कोर्ट के निर्णय को पढ़ रहे हैं।

Advertisement

 

भूषण ने बताया कि इस योजना का पहली बार लाभ लेने के लिए लाभार्थी आधार या अन्य कोई पहचान दस्तावेज जैसे वोटर कार्ड दे सकता है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 23 सितंबर को झारखंड में प्रधानमंत्री जन आरोग्य योजना (पीएमजेवाई) यानी आयुष्मान भारत की शुरुआत की थी।

 

मोदी सरकार का दावा है कि यह दुनिया की सबसे बड़ी स्वास्थ्य बीमा योजना है। इसके तहत गरीब परिवार के हर सदस्य को सरकारी या निजी अस्पताल में सालाना पांच लाख रुपए तक का इलाज मुफ्त मिलेगा। सरकार ने इस योजना का ऐलान फरवरी में किया था।

 

सरकार का दावा है कि पीएमजेवाई का लाभ 10.74 करोड़ परिवारों के करीब 50 करोड़ सदस्यों को मिलेगा। मोदी सरकार ने इस योजना के लिए 10 हजार करोड़ रुपए आवंटित किए हैं।

Tags:

Aadhaar mandatory for those seeking treatment under Ayushman Bharat for sec
Advertisement