हरियाणा में पत्रकारों के लिए शुरू हुई पेंशन योजना, 60 साल की उम्र के बाद मिलेगा 10000 रुपया महीना

हरियाणा में पत्रकारों के लिए शुरू हुई पेंशन योजना, 60 साल की उम्र के बाद मिलेगा 10000 रुपया महीना
Advertisement

 

पत्रकारों के लिए शुरू की 3 कल्याण योजनाएं, 1 नवम्बर से दो और होंगी शुरू 

सीएम मनोहार लाल का दावा, प्रदेश में हर महीने शुरू होगा एक नया सुधार का कार्य   

चण्डीगढ़

तीन साल पूरे होने पर हरियाणा की मनोहर सरकार सरकार ने पत्रकारों को पेंशन के तौर पर विशेष उपहार दिया है। अब 60 साल से अधिक उम्र के पत्रकारों को सरकार दस हजार रुपया मासिक पेंशन देगी। ऐसा करने वाली देश की यह पहली सरकार है। हरियाणा की इस पहल को अन्य राज्यों द्वारा भी शुरू करने का दबाव बढ़ गया है। पत्रकारों ने इस पहल का स्वागत किया है। 

Advertisement

 मुख्यमंत्री मनोहर लाल ने वीरवार को पंचकूला में सूचना, जनसम्पर्क एवं भाषा विभाग द्वारा आयोजित एक कार्यक्रम में मासिक पेंशन योजना पत्रकारों के लिए पत्रकार पेंशन योजना का शुभारंभ किया और नौ वयोवृद्ध पत्रकारों को पेंशन के चैक, स्मृति चिन्ह और शॉल भेंट करके सम्मानित किया। 

इस मौके पर सीएम मनोहर लाल ने कहा कि अब प्रदेश सरकार द्वारा भविष्य में हर महीने एक नया सुधार का कार्य किया जाएगा, जो प्रदेश में लोगों के समक्ष प्रस्तुत किया जाएगा।  पत्रकारों से बातचीत करते हुए उन्होंने कहा कि प्रदेश सरकार के  पिछले तीन वर्षों के कार्यकाल में व्यवस्था परिवर्तन के माध्यम से जनहित में कार्य किए गए हैं। समाज में लोगों के जीवन को सुरक्षित, सुखमय व व्यवस्थित बनाने की पहल की है। उन्होंने कहा कि तीन वर्षों में सरकार द्वारा की गई 4150 घोषणाओं में से 65 प्रतिशत अर्थात 2500 घोषणाए पूरी की जा चुकी हैं। 

मुख्यमंत्री ने स्मरण कराया कि हाल ही में हरियाणा स्वर्ण जयंती समारोह के अंतर्गत आयोजित पत्रकार सम्मेलन में उन्होंने पांच घोषणाएं की थी, जिनमें से तीन की आज  शुरूआत की गई है तथा शेष दो घोषणाओं की शुरूआत आगामी एक नवंबर को की जाएगी। इस अवसर पर मुख्यमंत्री ने 60 वर्ष से अधिक आयु के 9 वयोवृद्ध वरिष्ठ पत्रकारों को पत्रकार पेंशन योजना से सम्मानित किया, जिनमें सरदार एनएस परवाना, श्री विद्या प्रकाश, श्री एन.एस. मलिक, श्री गोविंद ठुकराल, श्री के.बी. पंडित, श्री सुरेंद्र खुल्लर, श्री रमेश गौतम, श्री  विनोद कुमार गुप्ता और श्री अनिल पुरी शामिल हैं।

Advertisement

पत्रकारों के लिए आरंभ की गई पत्रकार पेंशन योजना से उपस्थित पूरे प्रदेश का मीडिया जगत अति प्रसन्न था और इस अवसर पर कई वरिष्ठ पत्रकारों ने मुख्यमंत्री के साथ अपना सीधा संवाद स्थापित कर अनुभव भी सांझा किए। वहीं एक वरिष्ठ पत्रकार ने पूरे मीडिया की ओर से मुख्यमंत्री से गले मिलकर उनके द्वारा शुरु की गई योजनाओं की  प्रशंसा भी की और कहा कि वर्तमान सरकार ने पत्रकारों के कल्याण के लिए कई ऐसे कार्य किए हैं जो पूर्ववर्ती सरकारों ने नहीं किए। पत्रकारों ने कहा कि आज तक हरियाणा की किसी भी सरकार ने पत्रकार हित में इतना बड़ा फैसला नहीं लिया है, इस निर्णय की जितनी प्रशंसा की जाए व कम होगी।

चंडीगढ में मुख्यमंत्री ने पत्रकार भवन बनवाने की मांग पर सहानुभूतिपूर्वक विचार करने का आश्वासन भी दिया। मुख्यमंत्री ने कहा कि हर जिले में मीडिया सेंटर बने ऐसी घोषणा की गई है, जिसके तहत अब तक पांच जिलों में मीडिया सेंटर बन चुके हैं और शेष जिलों में मीडिया सेंटर बनाने की प्रक्रिया जारी है। उन्होंने कहा कि जिन दो योजनाएं को एक नवंबर से आरंभ किया जाएगा, उनमें कैसलैस मेडिकल क्लेम व बीमा पॉलिसी शामिल है। 

    मुख्यमंत्री ने कहा कि पिछली सरकार के छह वर्षोे के कार्यकाल में जितना कार्य किया गया उतना कार्य वर्तमान सरकार के तीन वर्षों के कार्यकाल में किया गया है। आगे के दो वर्षों का रोडमैप हर महीने एक सुधारात्मक कार्य के साथ तैयार किया गया है, जिसका विश्लेषण लोग स्वयं करेंगे। 

    उन्होंने कहा कि पिछली सरकारों में राजनीतिक संरक्षण के चलते असामाजिक तत्वों के कारण समाज में अफरा-तफरी व अराजकता का माहौल था, जिसे हमारी सरकार ने बंद किया है। भ्रष्टाचार चरम सीमा पर था, जिसपर ऑन लाईन प्रणाली के माध्यम से अंकुश लगाया गया है। 

    मुख्यमंत्री ने कहा कि आज हरियाणा में विपक्ष मुद्दा विहीन है, जिसका ताजा उदाहरण बाजरे की खरीद पर दिए जा रहे वक्तव्य पर है। पिछली सरकार के कार्यकाल में तीन सालों से  बाजरे की सरकारी खरीद बंद थी, जिसे हमने आते ही शुरू करवाया है और अब तीन वर्षों  से लगातार बाजरे की सरकारी खरीद हो रही है। 

    उन्होंने कहा कि वर्तमान राज्य सरकार ने प्रदेश के लोगों के हितों को ध्यान में रखते हुए एसवाईएल के पानी के लिए भरपूर प्रयास किया है और इस संबंध में सर्वोच्च न्यायालय ने भी हरियाणा के पक्ष में अपना निर्णय दिया है। इसी प्रकार, दादुपुर-नलवी नहर की मूल भावना को ही पिछली सरकारों ने बदल दिया। अब किसानों की मांग पर हमने इसे डिनोटीफाईड किया है। उन्होंने कहा कि इस नहर को तो पिछली सरकार ऐसे बना गई, जैसे बिन डिब्बों के रेल हो। 

    फसल बीमा की बात स्वामीनाथन आयोग ने कही है और अब किसान प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना के तहत अपनी फसल का कम प्रीमियम पर बीमा करवा रहे है, वह बात भी विपक्ष के नेताओं को हजम नहीं हो रही। उन्होंने कहा कि पूरी कैबिनेट दिन-रात एक जुट होकर प्रदेश के चहुंमुखी विकास के लिए कार्य कर रही है। उन्होंने कहा कि कुछ मंत्री तो यहां तक कहते हैं कि मुख्यमंत्री जी हम तो डब्बल ड्यूटी करते हैं। 

    सूचना, जनसंपर्क एवं भाषा विभाग के प्रधान सचिव व मुख्यमंत्री के प्रधान सचिव श्री राजेश खुल्लर ने आए हुए पत्रकारों व अतिथियों का स्वागत करते हुए कहा कि मुख्यमंत्री के व्यस्त कार्यक्रमों के चलते कम समय में यह सम्मेलन संभव नहीं था परंतु विभाग ने दिन-रात करके इसका सफल आयोजन किया है। 

 इससे पूर्व, मुख्यमंत्री श्री मनोहर लाल व अन्य मंत्रीगणों तथा विधायकों ने वर्तमान सरकार के तीन साल पूरे होने पर आधारित (साल तीन-बेहतरीन) पुस्तक का भी विमोचन किया। इस मौके पर वर्तमान सरकार के तीन साल की उपलब्धियों पर आधारित एक फिल्म को भी दिखाया गया। 

   इस अवसर पर शिक्षा मंत्री श्री रामबिलास शर्मा, कृषि एवं किसान कल्याण मंत्री श्री ओम प्रकाश धनखड, सूचना, जनसंपर्क एवं भाषा विभाग की मंत्री श्रीमती कविता जैन, परिवहन मंत्री श्री कृष्णलाल पंवार, सहकारिता राज्यमंत्री श्री मनीष ग्रोवर, जनस्वास्थ्य अभियंत्रिकी राज्यमंत्री डॉ. बनवारीलाल, श्रम एवं रोजगार राज्यमंत्री श्री नायब सिंह सैनी, सांसद श्री  रत्तनलाल कटारिया, पंचकूला के विधायक श्री ज्ञानचंद गुप्ता, कालका की विधायक श्रीमती लतिका शर्मा, मुख्यमंत्री के मीडिया सलाहकार अमित आर्य, मुख्यमंत्री के प्रधान ओएसडी नीरज दफ्तुवार और ओएसडी कैप्टन भूपेंद्र, आवास बोर्ड के चेयरमैन श्री जवाहर यादव, सूचना, जनसंपर्क एवं भाषा विभाग के निदेशक श्री टीएल सत्यप्रकाश, पंचकूला उपायुक्त श्रीमती गौरी पराशर जोशी सहित काफी संख्या में पत्रकार भी उपस्थित थे।

 

किसे मिलेगा पेंशन योजना का लाभ 

पेंशन योजना के सम्बन्ध में जानकारी देते हुए एक सरकारी प्रवक्ता ने बताया कि इस योजना के अन्तर्गत दैनिक, संध्या, साप्ताहिक, पाक्षिक, मासिक समाचार पत्र, समाचार एजेंसियों, रेडियो स्टेशनों, समाचार चैनलों के 60 वर्ष से अधिक आयु के मान्यता प्राप्त मीडिया कर्मियों को 10,000 रुपये की मासिक पेंशन प्रदान की जाएगी।

पात्रता मानदण्ड की जानकारी देते हुए उन्होंने बताया कि दैनिक, संध्या, साप्ताहिक, पाक्षिक, मासिक समाचार पत्र, समाचार एजेंसियों, रेडियो स्टेशनों, समाचार चैनलों के मान्यता प्राप्त मीडिया कर्मी जिन्हें पत्रकारिता के क्षेत्र में कम से कम 20 वर्ष का अनुभव हो और उनकी आयु 60 वर्ष से अधिक हो, पेंशन के पात्र होंगे। इसी प्रकार, मीडिया कर्मी की कम से कम पिछले पांच वर्षों से सूचना, जनसंपर्क एवं भाषा विभाग, हरियाणा से मान्यता प्राप्त होनी चाहिए।

नियम एवं शर्तें के बारे में उन्होंने बताया कि लाभार्थी मीडिया कर्मी को अपने बैंक खाते में पेंशन की रकम जमा करने के लिए किसी भी राष्ट्रीयकृत बैंक में आधार लिंक बचत बैंक खाता खोलना होगा और हर वर्ष जनवरी मास में इस आशय का एक प्रमाण पत्र देना होगा। 

उन्होंने बताया कि किसी अन्य राज्य सरकार या समाचार संगठन से किसी भी प्रकार की पेंशन या मानदेय प्राप्त कर रहे मीडिया कर्मी भी पात्र होंगे। यदि कोई अन्य पात्र मीडियाकर्मी किसी अन्य राज्य सरकार से 10,000 रुपये प्रतिमास से कम राशि की पेंशन प्राप्त कर रहा है तो इस योजना के तहत पेंशन की पात्रता में से वह राशि घटा दी जाएगी। 

उन्होंने बताया कि लाभार्थी मीडिया कर्मी के निधन के मामले में, मासिक पेंशन उसके पति/पत्नी (पत्नी या पति, जैसा मामला हो सकता है) को दी जायेगी, यदि उसे किसी भी संगठन या राज्य सरकार से वेतन/मेहनताना/पेंशन या कोई अन्य नियमित वित्तीय सहायता नहीं मिल रही है।

 

Tags:

pension CM Haryana ManoharLal मुख्यमंत्री मनोहर लाल हरियाणा
Advertisement