मेरे रिस्की फैसले ने वीरू को दुनिया का तूफानी ओपनर बनाया: गांगुली

मेरे रिस्की फैसले ने वीरू को दुनिया का तूफानी ओपनर बनाया: गांगुली
Advertisement


नई दिल्ली (जी.एन.एस)  भारतीय क्रिकेट टीम के पूर्व कप्तान सौरव गांगुली ने वीरेंदर सहवाग के लिए बड़ा बयान दिया। मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, उन्होंने कहा कि अगर सहवाग ओपनर के तौर पर बल्लेबाजी न करते तो वह इतने विस्फोटक बल्लेबाज नहीं बन पाते। बता दें कि सहवाग ने जब अपने करियर की शुरुआत की थी, तब वह ओपनिंग नहीं किया करते थे। वीरू उस वक्त चौथे नंबर पर खेलते थे।
2002 में श्रीलंका के खिलाफ एक मैच में कप्तान गांगुली ने ही उनसे पहली बार ओपनिंग करवाई थी।

 

गांगुली के इस फैसले को सहवाग ने गलत साबित नहीं होने दिया था। उस मैच के बाद ओपनर के तौर पर सहवाग का खेल हर मैच में निखरता रहा। गांगुली ने हाल ही में ‘एक शतक काफी नहीं’ नाम की किताब लिखी है। एक कार्यक्रम में उसी से जुड़े सवालों के जवाब देते हुए गांगुली ने सहवाग का जिक्र किया। गांगुली बताना चाह रहे थे कि कई बार अनचाहे या अधूरे मन से लिए गए फैसले आगे जाकर सही साबित हो जाते हैं, ऐसे में चांस लेने से पीछे नही हटना चाहिए। गांगुली बोले कि इससे जुड़ा ‘ओपनिंग’ का एक किस्सा उन्हें अबतक ध्यान है।

Advertisement

गांगुली ने आगे कहा, ‘हेडन और लैंगर अपनी टीम के लिए ओपन करके अच्छा कर रहे थे, इस बात को सोचते-सोचते मेरे मन ने कहा क्यों न सहवाग ने ओपन करवाया जाए? मैंने सोचा, करके देखते हैं, जो होगा देखा जाएगा। अगर ऐसा न किया गया होता तो सहवाग उसके आधे भी न पाते जैसे वे बन पाए। सहवाग के सफल होने से मुझे यकीन हो गया कि आपको पता नहीं होता कि कौन सा कदम सही साबित हो जाए।

Tags:

#sports #ganguly #vrainder # khel #cricket
Advertisement