गुरुग्राम के प्रणव ने फिनलैंड में Ultra-Hack प्रतियोगिता में किया भारत का नाम रोशन

गुरुग्राम के प्रणव ने फिनलैंड में Ultra-Hack प्रतियोगिता में किया भारत का नाम रोशन
Advertisement

गुरुग्राम। द नॉर्थकैप यूनिवर्सिटी के B.Tech कंप्यूटर साइंस का छात्र प्रणव जैन ने गुरुग्राम और भारत का नाम रौशन करते हुए, हेलसिंकी (फिनलैंड) में आयोजित प्रतिष्ठित ‘अल्ट्राहैक’ में भारत का प्रतिनिधित्व किया।

तीन दिवसीय ‘हैकथोन’ प्रतियोगिता वैश्विक स्तर पर आयोजित किया जाता है जिसमें नवीनतम तकनीकियों के माध्यम से विश्व स्तरीय चुनौतियों को हल करने के लिए डेवलपर्स, स्टार्टअप और कारपोरेशन से प्रतिनिधियों को चुनते हैं |

प्रणव को स्ल्श कॉन्फ्रेंस में आमंत्रित गया था जो कि यूरोप का सबसे बड़ी टेक्नोलॉजीकल इवेंट है |

Advertisement

‘अल्ट्राहैक’ में प्रणव ने अपनी विचार को साझा करते हुए बताया कि, एक प्लेटफार्म बनाया जाए जहाँ कोई भी व्यकित या रोगी क्लिनिकल परीक्षण के लिए रजिस्टर कर सकते हैं, जो भविष्य में दवा कंपनियों के लिए फायदेमंद साबित होगा |    

प्रणव को अप्रैल 2017 में फिनलैंड में फिर से आयोजित होने वाले अल्ट्राहैक में भाग लेने के लिए आमंत्रित किया गया है। साथ ही प्रणव को भारत में अल्ट्राहैक संचालन करने के लिए अधिकृत किया गया है जिसके अंतर्गत अप्रैल 2017 में होने वाले हैकथोन प्रतियोगिता के लिए भारत के विजेताओं को चुनने का दायित्व दिया गया है |

इससे पहले भी प्रणव गुरुग्राम और भारत का नाम रौशन करते हुए, Google के इंटर्नशिप प्रोग्राम (GSoC 2016) के लिए चयनित हुआ था | प्रणव को उनके प्रोजेक्ट के लिए गूगल की तरफ से 6 हजार अमेरिकी डॉलर की वृत्ति प्रदान की जा चुकी है | प्रणव ने एंड्रॉयड लाईब्रेरी के प्रोजेक्ट पर काम किया है जिसमें k9 मेल में एक नई कार्यक्षमता को जोड़ा है जिससे सेशन इनिशियल प्रोटोकॉल (SIP) पर बातचीत की जा सकती है|

Advertisement

प्रणव इंडिया हैकाथौन के लिए गूगल कोड जीता चूका है, जिसके लिए प्रणव को प्रधानमंत्री मोदी के द्वारा सम्मानित किया गया था | राष्ट्रपति एस्टेट द्वारा आयोजित सोशल इनोवेशन हैकाथौन कार्यक्रम में राष्ट्रपति के द्वारा सम्मानित किया जा चूका है|

इसके साथ साथ उसने राष्ट्रीय टाइम्स एप्स खोज प्रतियोगिता, उडासिटी नैनोडिग्री की गूगल की छात्रवृत्ति, टाटा ट्रस्ट और डेलॉइट कॉलेजिएट साइबर थ्रेट प्रतियोगिताएं भी जीती है |

प्रणव गूगल के प्रोजेक्ट पर भी काम कर रहा है, जिसमें उसे यूनाइटेड किंगडम के मेंटोर्स के द्वारा मार्गदर्शन मिल रहा है | उसने बताया कि “मैं इस प्रोजेक्ट के लिए भारत से ही काम कर रहा हूँ| गूगल अपने विशेषज्ञों के साथ मुझसे संपर्क में रहता है और इस प्रोजेक्ट के मदद के लिए विशेषज्ञों का साथ भी दे रहा है | हम अपना डेली का काम स्काइप के माध्यम से कर रहें है|”

Tags:

national news tech world gadget desk Gurugram news Pranav jain ultra hack ultra-hack tournament Finland यूरोप टेक्नोलॉजीकल इवेंट
Advertisement