#गुरुग्राम : मनोहर सरकार ने तीन साल में सड़कों पर खर्च किए 183 करोड़, विपक्ष ने उठाए सवाल

#गुरुग्राम : मनोहर सरकार ने तीन साल में सड़कों पर खर्च किए 183 करोड़, विपक्ष ने उठाए सवाल
Advertisement

 विपक्ष ने उठाए सवाल, हवा में खर्च हुआ धन, जांच हो

तीन साल में खर्च किए 183 करोड़, फिर भी इतना बुरा हाल, कैसे 

 

अनिल आर्य, चंडीगढ़

गुरुग्राम की टूटी सड़कों और गड्ढों से गुरुग्रामवाले भले ही गुस्साए हुए हों पर मनोहर लाल सरकार का दावा है कि सरकार ने अब तक शहर की सड़कों पर तीन साल में करीब183 करोड़ रूपये खर्च किए हैं। यह जानकारी मंगलवार को हरियाणा की शहरी स्थानीय निकाय मंत्री कविता जैन ने विधानसभा में दी। 

Advertisement

मंत्री कविता जैन के मुताबिक गुरुग्राम विधानसभा निर्वाचन क्षेत्र में पिछले तीन वर्ष के दौरान नगर निगम गुरुग्राम द्वारा सडक़ों की मरम्मत व निर्माण कार्यों पर 7982.33 लाख रुपये जबकि हरियाणा शहरी विकास प्राधिकरण द्वारा 10,298.22 लाख रुपये की राशि खर्च की गई। वो हरियाणा विधानसभा सत्र के दूसरे दिन विधायक उमेश अग्रवाल द्वारा गुरुग्राम विधानसभा निर्वाचन क्षेत्र में सडक़ों की मरम्मत व निर्माण के संदर्भ में पूछे गए एक प्रश्न का उत्तर दे रही थी।

 

उन्होंने बताया कि नगर निगम गुरुग्राम द्वारा 1 अक्तूबर, 2014 से 31 मार्च, 2015 तक इन कार्यों पर 3215.89 लाख रुपये, 1 अप्रैल, 2015 से 31 मार्च, 2016 तक 682.09 लाख रुपये, 1 अप्रैल, 2016 से 31 मार्च, 2017 तक 2559.45 लाख रुपये तथा 1 अप्रैल, 2017 से 30 सिंतबर, 2017 तक 1524.90 लाख रुपये की राशि खर्च की गई है। 

Advertisement

 

कविता जैन के अनुसार इसी प्रकार, हरियाणा शहरी विकास प्राधिकरण ( #HUDA ) द्वारा #गुरुग्राम विधानसभा निर्वाचन क्षेत्र में सडक़ों की मरम्मत व निर्माण कार्यों पर इसी अवधि के दौरान क्रमश: 499.32 लाख रुपये, 572.89 लाख रुपये, 468.33 लाख रुपये तथा 1 अप्रैल, 2017 से 30 सिंतबर, 2017 तक 17.25 लाख रुपये की राशि खर्च की गई है। उन्होंने बताया कि हुडा द्वारा मुख्य सडक़ों की विशेष मरम्मत पर 8740.43 लाख रुपये की राशि खर्च की गई।

 

इतना खर्च हुआ तो सड़कों की हालत खस्ता क्यों: गहलोत 

 

सरकार के दावे चाहे भले ही जो हों पर इनेलो के वरिष्ठ नेता और विधानसभा के पूर्व डिप्टी स्पीकर गोपी चंद गहलोत का कहना है कि शहर की एक भी सड़क ऐसी नहीं जो सही हो।सड़कों की इतनी खस्ता हाल है कि चलना भी दूभर है। शहर की नई  कॉलोनी हो या पुरानी, कहीं भी सडकों मरम्मत के नाम पर अगर एक भी  तो कई कई फुट के गड्ढे सड़कों पर नहीं होते।

उन्होंने कहा कि इस बात की गहन जांच हो कि मनोहर सरकार ने तीन साल में गुरुग्राम की सड़कों पर खर्च किए 183 करोड़, फिर भी इतना बुरा हाल, कैसे ?

 

हवा में हुआ खर्च, दावों की जांच हो: कुलराज 

 

कांग्रेस के वरिष्ठ नेता व पूर्व पार्षद कुलराज कटारिया ने भी सरकार के इस दावे को झूठ का पुलिंदा बताया है। उन्होंने सवाल उठाते हुए कहा कि यदि सरकार ने इतना मोटा खर्च यहां की सड़कों को बनाने और मरम्मत करने में किया तो वो यह बताए कि यह कहीं भी दिखाई  क्यों नहीं दे रहा? ऐसा लगता है सारा खर्च हवा में किया गया है। 

कटारिया ने कहा कि मनोहर सरकार झठे दावे करने में माहिर है। शहर की एक भी सड़क ऐसी नहीं जिसे सड़क कहा जा सके। हाल में ही हुए नगर निगम चुनावों में भी सारी झूठ सामने आ चुकी है। मतदाताओं ने भाजपा के सारे दावों की हवा निकाल दी। यदि इतना धन खर्च होता तो मतदाता में सरकार और जनप्रतिनिधियों के प्रति इतना गुस्सा न होता। कटारिया ने भी इस खर्च की जांच मांग की। 

 

Tags:

Gurugram Kavita jain Umesh aggarwal गुरुग्राम विधानसभा निर्वाचन क्षेत्र हरियाणा की शहरी स्थानीय निकाय मंत्री कविता जैन MCG
Advertisement