नोएडा में गैंगस्टर बलराज भाटी हुआ मुठभेड़ में ढेर, -एसआईटी के तीन पुलिसकर्मी व एक नागरिक भी घायल

नोएडा में गैंगस्टर बलराज भाटी हुआ मुठभेड़ में ढेर, -एसआईटी के तीन पुलिसकर्मी व एक नागरिक भी घायल
Advertisement


प्रवीण शर्मा
गुरुग्राम। हरियाणा, दिल्ली और यूपी पुलिस के लिए सिरदर्द बना गैंगस्टर बलराज भाटी एसआईटी गुरुग्राम और दिल्ली, यूपी एसआईटी के संयुक्त ऑपरेशन में ढेर हो गया। मौके से उसके साथ दो बदमाश फरार होने में कामयाब हो गए। गैंगस्टर के साथ हुई मुठभेड़ के दौरान गोलियां लगने से तीन पुलिसकर्मियों समेत कुल चार लोग घायल हो गए। बलराज भाटी के एंकाउंटर के साथ तीनों राज्यों की पुलिस ने अपराध की दुनिया से एक नाम मिटा दिया है और राहत की सांस ली।

 

पुलिस उपाधीक्षक गुरुग्राम एसटीएफ राहुल देव के नेतृत्व में इंस्पेक्टर सुरिंद्र और इंस्पेक्टर सतीश देसवाल ने दिल्ली और यूपी पुलिस के साथ मिलकर अपराध की दुनिया में आतंक का पर्याय बने सुंदर भाटी गैंग के शार्प शूटर बलराज भाटी नोयडा में एनकाउंटर में ढेर कर दिया। एसटीएफ को गुप्त सूचना मिली थी कि मोस्ट वांटेड बदमाश बलराज भाटी किसी से पैसे लेने के लिए सेक्टर-37 ओवरब्रिज पर जा रहा है। इस सूचना के बाद से पूरा पुलिस तंत्र सक्रिय हो गया। तीनों राज्यों की एसटीएफ टीम ने सक्रियता दिखाई। गुरुग्राम एसटीएफ के डीएसपी राहुल देव के नेतृत्व में एसटीएफ यूपी व नोयडा पुलिस को साथ लेकर बताए स्थान पर पहुंची। टीम वहां पर बदमाश बलराज भाटी की उस स्विफ्ट का का इंतजार करने लगी, जिसमें सवार होकर वह वहां पर पहुंचने वाला था। बताया जा रहा है कि खास उपकरण के माध्यम से वह पुलिस के रडार पर आ गया। वहां से उसने भागने की कोशिश भी की और पुलिस पर ही फायरिंग करनी शुरू कर दी। जैसे ही वह अपनी कार में भागा तो पुलिस ने उसका पीछा करना शुरू कर दिया। आगे जाकर सेक्टर-49 क्रासिंग पर उसकी गाड़ी का टायर गोली लगने से फट गया। इसके बाद भी भाटी समेत तीन बदमाशों ने पुलिस पार्टी पर गोलीबारी करते हुए भागने का प्रयास किया। पुलिस किसी भी कीमत पर बदमाशों को छोडऩा नहीं चाहती थी। इसलिए पूरे साहस के साथ पुलिस टीम ने उनका पीछा किया। बदमाशों के पीछे लगी टीम लगातार उन पर फायरिंग कर रही थी, ताकि उन्हें किसी तरह से ढेर किया जा सके। इसके बाद बदमाश भाटी एक छत पर चढ़ गया और वहां से नीचे फायरिंग करने लगा। इस दौरान उसकी गोली तीन पुलिसकर्मियों व एक आम नागरिक को जा लगी। जिसमें वे घायल हो गए। इनमें से एक तो यूपी एसटीएफ का सिपाही था और दो हरियाणा एसटीएफ के सिपाही राजकुमार व भूपेंद्र शामिल हैं। दोनों ओर से गोलीबारी और पुलिस की जवाबी कार्रवाई में गैंगस्टर बदमाश को गोलियां जा लगी। जिससे वह ढेर हो गया। इसके साथ ही पुलिस ने तीन राज्यों में आंतक का पर्याय बने बदमाश का नाम सूची से मिटा दिया। 
बुलंदशहर जेल के जेलर की करने वाले थे हत्या

Advertisement

 

यूपी के बुलंदशहर का रहने वाला बलराज भाटी कई लूट, हत्याओं व अपहरण की वारदातों का मास्टर माइंड था। उसने दिल्ली, हरियाणा और यूपी में अपराध की दुनिया में आंतक फैला रखा था। दिल्ली पुलिस ने उस पर एक लाख और यूपी पुलिस ने उस पर पचास हजार रुपए का ईनाम भी रखा था। पुलिस का कहना है कि सिर्फ बलराज भाटी ही नहीं, बल्कि उसके परिवार के अन्य सदस्य भी अपराधिक गतिविधियों में शामिल रहे हैं। बलराज भाटी यूपी के दादरी म्यूनिसिपल कारपोरेशन के पूर्व चेयरमैन विजय भाटी की हत्या में शामिल था। पुलिस का यह भी कहना है कि बलराज भाटी और उसके गैंग के सदस्य बुलंदशहर जेल के जेलर की हत्या की योजना बना रहे थे।

 

Advertisement

Tags:

# crime khabarlive,national noida police haryana
Advertisement