चौरासी कोस परिक्रमा मार्ग का जीर्णोद्धार किया जाएगा .... मुख्यमंत्री

चौरासी कोस परिक्रमा मार्ग का जीर्णोद्धार किया जाएगा .... मुख्यमंत्री
Next
Advertisement

हरियाणा प्रदेश के ब्रज क्षेत्र में पडने वाले प्राचीन चौरासी कोस परिक्रमा मार्ग का जीर्णोद्धार किया जाएगा।हरियाणा क्षेत्र में ब्रज क्षेत्र के कुछ प्राचीन धार्मिक व तीर्थ स्थलों का जीर्णोद्धार कार्य मुखयमंत्री घोषणाओं में भी शामिल है।

                   हरियाणा  व उत्तर प्रदेश के मध्य विभिन्न सांझे मुद्दों व विषयों के संदर्भ में मथुरा में हरियाणा के मुख्यमंत्री श्री मनोहरलाल व उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री श्री योगी आदित्यनाथ ने एक बैठक कर विचार विमर्श किया। बैठक में उत्तर प्रदेश के डेयरी विकास एवं धार्मिक कार्य  मंत्री लक्ष्मी नारायण चौधरी 

 तथा उतर प्रदेश के उर्जा मंत्री श्रीकांत शर्मा भी मौजूद रहे।

Advertisement

                     बैठक में विचार विमर्श के दौरान हरियाणा के मुख्यमंत्री श्री मनोहरलाल ने कहा कि हरियाणा में ब्रज क्षेत्र में चौरासी कोस परिक्रमा मार्ग का जीर्णोद्धार किया जाएगा। हरियाणा क्षेत्र में ब्रज क्षेत्र के कुछ प्राचीन धार्मिक व तीर्थ स्थलों का जीर्णोद्धार कार्य मुखयमंत्री घोषणाओं में भी शामिल है।बैठक के बाद उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री श्री योगी आदित्यनाथ ने मीडिया को बताया कि विभिन्न सांझे मुद्दों व विषयों पर दोनों राज्य मिलकर कार्य करेंगे ताकि दोनों प्रदेशों की जनता को सुविधाएं हों।

             मथुरा में उत्तर प्रदेश प॔ंडित दीनदयाल उपाध्याय पशु चिकित्सा विज्ञान विश्वविद्यालय एवं गौ अनुसंधान संस्थान में हुई दोनों प्रदेशों के मुख्यमंत्रियों की बैठक में दोनों प्रदेशों के मध्य विभिन्न सांझे मुद्दों व विषयों पर गहन विचार विमर्श हुआ। हरियाणा प्रदेश के क्षेत्र में पडने वाले वाले प्राचीन चौरासी कोस परिक्रमा मार्ग व इस पर पडने वाले विभिन्न प्राचीन धार्मिक व तीर्थ स्थलों के जीर्णोद्धार के हरियाणा के उतर प्रदेश के पर्यटन व लोक निर्माण विभाग के उच्चाधिकारियों की शीघ्र ही एक बैठक होगी। आगरा कैनाल में पर्याप्त सिंचाई पानी की उपलब्धता सुनिश्चित करने व माइनरों की साफ-सफाई के लिए दोनों प्रदेशों के मुख्य सचिवों की बैठक की जाएगी। हरियाणा में पलवल जिला क्षेत्र में हसनपुर के निकट यमुना पर पुल के निर्माण के लिए भी दोनों प्रदेश मिलकर कार्य करेंगे।

           दोनों प्रदेशों के क्षेत्रों में क़ानून एवं व्यवस्था की स्थिति दुरूस्त रखे जाने की दिशा में दोनों पुलिस महानिदेशकों की बैठक प्रत्येक तीन माह की समयावधि में नियमित रूप से की जाएगी। इस बैठक में दिल्ली पुलिस के उच्चाधिकारी भी शामिल रहेंगे।आबकारी संबधी विभिन्न महत्वपूर्ण विषयों के संदर्भ में दोनों राज्यों के अतिरिक्त राजस्थान,दिल्ली व मध्य प्रदेश के आबकारी विभाग के उच्चाधिकारियों की बैठक की जाएगी।अवैध खनन को रोकने के लिए भी दोनों प्रदेश संयुक्त रूप से कार्य करेंगे। दोनों प्रदेशों के मध्य सास्कृतिक आदान-प्रदान के कार्यक्रमों को भी बढावा दिया जाएगा। 

Advertisement
Advertisement