एसवाईएल के मुददे को सत्ता की सीढ़ी न बनाए राजनीतिक दल : मुख्यमंत्री

एसवाईएल के मुददे को सत्ता की सीढ़ी न बनाए राजनीतिक दल : मुख्यमंत्री
Advertisement

चण्डीगढ़,( अनिल आर्य) हरियाणा के मुख्यमंत्री  मनोहर लाल ने राज्य के राजनीतिक दलों से अपील करते हुए कहा कि वे सतलुज-यमुना लिंक कैनाल (एसवाईएल) के मुददे को सत्ता की सीढ़ी न बनाए, क्योंकि आज जो कोई भी दल इस मामले पर राजनीति करेगा, तो जनता समझदार है। इसलिए राजनीतिक दलों को इस मामले पर राजनीति नहीं करनी चाहिए। उन्होंने कहा कि हम एसवाईएल के पानी की एक-एक बंूद को नहीं छोडेंंगे और यह हमारा संकल्प हैं।  मुख्यमंत्री आज यहां हरियाणा विधानसभा में राज्यपाल के अभिभाषण पर अपना उत्तर दे रहे थे। 

 

उन्होंने विपक्ष पर प्रहार करते हुए कहा कि विपक्ष के लिए एसवाईएल का मतलब व मंत्र ‘सत्ता यूं लूगा’ है और विपक्ष के लिए एसवाईएल एक बोतल के जिन्न की तरह है, जब विपक्ष के लोग सत्ता में होते हैं तो यह जिन्न बोतल में बंद हो जाता है और जब ये लोग विपक्ष में होते हंै तो यह जिन्न बोतल से बाहर आ जाता है। मुख्यमंत्री ने सदन में सभी सदस्यों के समक्ष सुझाव देते हुए कहा कि उनका कहना है कि एसवाईएल के मामले पर राज्य के सभी दलों की एक बैठक हो और इस पर कार्यवाही करने के लिए एक दिशा निर्धारित होनी चाहिए। 

Advertisement

 

मुख्यमंत्री ने कहा कि एसवाईएल के संबंध में जमीन हमारे नाम हो चुकी हैं और इसका कब्जा लेना बाकी है। उन्होंने कहा कि हरियाणा का कोई भी नागरिक, दल, किसान यह नहीं कह सकता कि एसवाईएल का पानी उसे नहीं चाहिए। उन्होंने कहा कि एसवाईएल के मामले पर जब जब भी केन्द्र के मंत्रियों के साथ मिलना होता था तो हम उनसे मिलें और एसवाईएल के पानी को लेने के लिए अपनी बात रखी। उन्होंने कहा कि राज्य सरकार एसवाईएल की लडाई बडी ही संजीदगी के साथ लड रही है और इस बारे में राज्य के सभी दल देश के राष्ट्रपति से भी मिलें हैं और इसी प्रकार जब प्रधानमंत्री से मिलने की बात आई तो उन्होंने इस मामले पर देश के गृह मंत्री से मिलने की बात की तो राज्य का सर्वदलीय प्रतिनिधिमंडल गृह मंत्री से भी मिला और अपनी बात रखी। 

उन्होंने सदन में सदस्यों से सवाल करते हुए कहा कि आज तक एसवाईएल का निर्णय क्यों नहीं हुआ, क्योंकि सभी दलों ने इस मामले पर अपना-अपना स्टेंड लिए हुए हैं। उन्होंने कहा कि वर्ष 2002 मे एसवाईएल पर निर्णय हुआ परंतु इस निर्णय को वर्ष 2004 में क्रियान्वित करवाने पर कार्यवाही की गई और उस दौरान पंजाब सरकार ने एसवाईएल पर असंवैधानिक एक्ट पास कर दिया और यह मामला प्रैजीडेंशियल रैफरेंस के लिए लटक ता रहा। उन्होंने विपक्ष से सवाल करते हुए कहा कि वर्ष 2002 से 2004 तक दो साल में एसवाईएल क्यों नहीं बनाईं। इसी प्रकार,उन्होंने कांग्रेस पार्टी के सदस्यों से सवाल करते हुए कहा कि 2004 से 2014 तक क्रियान्वयन पर भी इनकी सरकार ने कोई प्रयत्न नहीं किया। उन्होंने कहा कि जब तक एसवाईएल के निर्णय पर क्रियान्वयन के आदेश नहीं लिए जाते हैं तब तक उस पर कार्यवाही नहीं होती। जब क्रियान्वयन आदेश ही नहीं होगा तो एसवाईएल कैसे बन पाएगी। ये पिछली सरकारों की विफलता के कारण आज एसवाईएल नहीं बन पाई है। 

Advertisement

Tags:

# cm haryana syl सरकार एसवाईएल विपक्ष
Advertisement