दिल्ली सरकार ने बसों में पैनिक अलार्म सिस्टम का पायलट प्रोजेक्ट शुरू किया

दिल्ली सरकार ने बसों में पैनिक अलार्म सिस्टम का पायलट प्रोजेक्ट शुरू किया
Advertisement


नई दिल्ली (जी.एन.एस) दिल्ली सरकार ने अंतरराष्ट्रीय महिला दिवस से एक दिन पहले बसों में पैनिक अलार्म सिस्टम का पायलट प्रोजेक्ट शुरू कर दिया। अभी राजघाट-2 डिपो की 5 बसों में पैनिक अलार्म बटन लगाए गए हैं। अगले साल मार्च तक डीटीसी और क्लस्टर स्कीम की सारी बसों में पैनिक बटन के साथ-साथ सीसीटीवी लगा दिए जाएंगे। ट्रांसपोर्ट मिनिस्टर कैलाश गहलोत ने बताया कि दिल्ली सरकार ने महिलाओं की सुरक्षा को ध्यान में रखते हुए 200 डीटीसी बसों में सीसीटीवी लगाने का प्रोजेक्ट शुरू किया था। डीटीसी बसों में मार्शल भी तैनात किए गए हैं। अब पैनिक बटन लगाए जाने की शुरुआत हो रही है। हर बस में चार पैनिक बटन होंगे और मार्च 2019 तक डीटीसी और क्लस्टर की सभी बसों में सीसीटीवी और पैनिक बटन लगा दिए जाएंगे।

राजघाट-2 डिपो के तहत चलने वाली रूट नंबर 522 की बसों में अभी पैनिक अलार्म बटन लगाए गए हैं। सरकार का कहना है कि इस पायलट प्रोजेक्ट के बाद धीरे-धीरे बाकी बसों में भी पैनिक बटन लगाए जाएंगे। बेंगलुरू बेस्ड एनजीओ-प्रोजेक्ट दुर्गा के साथ मिलकर इसे शुरू किया गया है। यह संस्था महिला सुरक्षा की दिशा में काम कर रही है। बसों के स्टाफ (ड्राइवर और कंडक्टर) के साथ मार्शलों को इस सिस्टम के बारे में ट्रेनिंग दी जागी।

 

Advertisement

बस में एलईडी डिस्पले बोर्ड पर भी लिखा होगा कि बस में पैनिक बटन हैं। चार बटन से पूरी बस को कवर किया जाएगा। बटन को दबाने पर 40 सेकंड के लिए जोर से अलार्म बजेगा। अलार्म बजने के बाद ड्राइवर को तुरंत बस को रोकना होगा और कंडक्टर की भी यह ड्यूटी होगी कि वह देखे कि बस में कौन से हिस्से से अलार्म बजा है। अगर कोई बड़ी घटना हुई है तो इस बारे में तुरंत डिपो मैनेजर को बताना होगा, जो पीसीआर कॉल भी करेगा। पैनिक अलॉर्म सिस्टम को जीपीएस लोकेशन के साथ जोड़ा जाएगा। अलार्म बजने पर डिपो मैनेजर और सेंट्रल कमांड सेंटर को बस की लोकेशन के बारे में पूरी जानकारी मिल जाएगी।

Tags:

# women delhi अंतरराष्ट्रीय महिला दिवस,सरकार
Advertisement