प्रवासी हरियाणा दिवस: 2 दिन में हुए 20 हजार करोड़ रुपए के 24 समझौते

प्रवासी हरियाणा दिवस: 2 दिन में हुए 20 हजार करोड़ रुपए के 24 समझौते
Next
Advertisement

गुरुग्राम। हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल ने कहा कि प्रवासी हरियाणावासियों को उनकी जड़ों से जोडऩे के उदेश्य से प्रदेश में पहली बार आयोजित प्रवासी हरियाणा दिवस बेहद कामयाब रहा है।  जिसके दौरान लगभग 20 हजार करोड़ रुपए के 24 समझौता ज्ञापनों पर हस्ताक्षर किए गए हैं। 

मुख्यमंत्री ने कहा कि प्रवासी हरियाणा दिवस अब हैपनिंग हरियाणा ग्लोबल इन्वेस्टर्स सम्मिट के साथ अगले वर्ष आयोजित किया जाएगा, जिसका आयोजन एनआरआई की सुविधा के अनुसार किया जाएगा।

यह जानकारी आज गुरुग्राम में मुख्यमंत्री  मनोहर लाल ने पत्रकारों से बातचीत के दौरान दी। उन्होंने कहा कि आज दो दिवसीय प्रवासी हरियाणा दिवस सम्पन्न होने जा रहा है। पिछले वर्ष किन्हीं कारणों से हम हैपनिंग हरियाणा ग्लोबल इन्वेस्टर्स सम्मिट के साथ यह कार्यक्रम आयेाजित नहीं कर पाए थे,लेकिन पूर्व योजना के तहत इस कार्यक्रम को अब इस वर्ष आयोजित किया गया है, जो काफी सफल रहा है।

Advertisement

    उन्होंने कहा कि इस कार्यक्रम का उदेश्य हरियाणा से जुडे प्रवासी हरियाणावासियों को प्रदेश के साथ पुन: जोडऩे का है ताकि वह अपनी जड़ों के साथ पुन: स्थापित हो सकें। उन्होंने कहा कि इस उदेश्य के माध्यम से भिन्न-भिन्न प्रकार के निवेश होने के साथ-साथ परोपकार के कार्य से जुडऩा भी है। उन्होंने कहा कि इस प्रकार के कार्यक्रमों के आयोजन का उदेश्य निवेश के माध्यम से उद्यमियों को जोडऩा हैं और उनके मूल स्थान के विकास को करवाना भी है।

मुख्यमंत्री ने कहा कि प्रवासी हरियाणा दिवस में 33 देशों के 400 से अधिक एनआरआई, 300 से अधिक देश के अन्य राज्यों में प्रवास कर रहे हरियाणावासी और उद्योगों व मीडिया से जुड़े अन्य लोगों को मिलाकर लगभग 1500 प्रतिनिधियों ने भाग लिया। उन्होंने कहा कि 23 प्रवासी हयिाणावासियों ने अपने गांव के अनुसार 17 करोड़ रुपए के निवेश की इच्छा जताई है।

उन्होंने कहा कि इस कार्यक्रम के दौरान 20 हजार करोड़ से अधिक के निवेश के लिए 24 समझौता ज्ञापनों पर हस्ताक्षर हुए हैं जिनसे लगभग 43 हजार लोगों को रोजगार मिलेगा। उन्होंने बताया कि इस कार्यक्रम के दौरान पांच सैक्टोरल सैशन भी आयोजित किए गए जिनमें आईटी, इलैक्ट्रोनिक्स, पर्यटन, स्वास्थ्य देखभाल और इन्फ्रास्ट्रक्चर शामिल है।

Advertisement

उन्होंने कहा कि इस कार्यक्रम के दौरान जो भी सुझाव आए हैं उनका उपयोग हरियाणा के हित में किया जाएगा। उन्होंने कहा कि प्रवासी हरियाणा दिवस के दौरान बीटूबी और बीटूजी की बैठकें भी आयोजित की गई जिनमें केन्द्र व राज्य सरकार के मंत्री और उन्होंने स्वयं भी शिरकत की। इन बैठकों में 40 कपंनियों के 150 प्रतिभागियों ने भाग लिया।

मुख्यमंत्री ने कहा कि प्रवासी भारतीयों (एनआरआई) के लिए  दो डैडिकेटिड सैल स्थापित करने की घोषणा की। शिकायत निवारण प्रकोष्ठ उनकी शिकायतों को निपटान करेगा जबकि दूसरा प्रकोष्ठ के निवेश को बढावा देने का काम करेगा जिससे वे अपने सुझाव देने में सक्षम होंगे। उनकी शिकायतों से संबंधित प्रकोष्ठ के अध्यक्ष पुलिस महानिदेशक स्तर का अधिकारी होगा। मुख्यमंत्री ने कहा कि यह प्रकोष्ठ स्थापित होने से अप्रवासी भारतीयों की शिकायतों को त्वरित समाधान सुनिख्चित होने के साथ-साथ जांच तथा कार्यवाही प्रक्रिया भी सुचारू बनेगी।

उन्होंने कहा कि इस प्रकोष्ठ का नंबर 8968420002 होगा और ईमेल आईडी Nricellharyana@gmail.com होगी, जिसका प्रयोग किसी भी एनआरआई द्वारा एसएमएस, ईमेल, फैक्स या वाईस कॉल के माध्यम से सरकार तक पहुंचने के लिए किया जा सकेगा। प्रत्येक पुलिस जिले में इस सैल की एक फिल्ड युनिट होगी और हरियाणा पुलिस की बेवसाइट पर इन फील्ड यूनिट के दूरभाष नंबर उपलब्ध करवाए जाएंगें।

पत्रकार द्वारा समझौता ज्ञापनों के संबंध में पूछे गए प्रश्र के उत्तर में उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री ने कहा कि पिछले वर्ष हुए हैपनिंग हरियाणा ग्लोबल इन्वेस्टर्स सम्मिट के दौरान लगभग 360 समझौते हुए थे जिनमें 100 से अधिक समझौतों पर कार्य शुरू किया जा चुका है।  इनमें से कुछ को भूमि का आंबटन हो गया है तो कुछ ने इकाईयां स्थापित कर ली हैं। उन्होंने कहा कि इनमें एक लाख करोड़ रुपए का निवेश होने की संभावना है।

एक अन्य प्रश्र के उत्तर में उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री ने ब्रेन-डे्रन के शब्द में सुधार किया और अब इसे ब्रेन-गेन कहा जाता है। इसके तहत परस्पर लेन-देन होता है और अच्छी चीजों का आदान-प्रदान किया जाता है।

 

Next Slide: आगे पढ़ें किन 24 समझौतों पर हुए हस्ताक्षर

  • 1 img-circle
  • 2 img-circle
loading...
Advertisement